नौकरी के लिए लखनऊ आई युवती को सहेली ने दिखाया सेक्स रैकेट का रास्ता, संचालिका समेत 9 अरेस्ट

Shubham Bajpai, Last updated: Wed, 29th Sep 2021, 9:12 AM IST
  • लखनऊ पुलिस ने आलमबाग इलाके में मधुबन नगर में एक घर में छापेमारी कर सेक्स रैकेट का खुलासाा किया. पुलिस ने इस दौरान सेक्स रैकेट संचालिका समेत 7 लड़कियों और 2 लड़कों को गिरफ्तार किया.
लखनऊ में छापेमारी में सेक्स रैकेट का खुलासा 9 लोग गिरफ्तार

लखनऊ. मेरे घर के हालात ठीक नहीं थे, इसलिए प्रयागराज से लखनऊ नौकरी के लिए आई थी. यहां नौकरी की जगह सेक्स रैकेट से जुड़ गई. ये आपबीती लखनऊ में देर रात को पुलिस द्वारा छापेमारी में गिरफ्तार सेक्स रैकेट में शामिल युवती ने बताई. पुलिस ने युवती के साथ सेक्स रैकेट संचालिका समेत 9 लोगों को गिरफ्तार किया. इस दौरान पुलिस ने संचालिका का फोन और एक रजिस्टर जब्त कर लिया. जिसमें कई महत्वपूर्ण नंबर और ग्राहकों के नंबर दर्ज हैं.

नौकरी के लिए आई थी लखनऊ

गिरफ्तार युवतियों में प्रयागराज की रहने वाली एक युवती ने बताया कि घर की स्थिति ठीक नहीं होने की वजह से लखनऊ नौकरी के लिए आ गई थी. इस दौरान नौकरी से अपना खर्च निकालना ही मुश्किल हो गया था. जिसके चलते सहेली ने सेक्स रैकेट का रास्ता दिखाया. जिसके बाद ज्यादा पैसे के लालच में ये काम करने लगी. इस युवती की तरह कई अन्य लड़कियां भी नौकरी के लिए घर छोड़ कर लखनऊ आईं थी और पैसे की चाह में सेक्स रैकेट में शामिल हो गई.

शादी का झांसा देकर नाबालिक छात्रा से टीचर ने किया रेप, बाद में दोस्त से करा दी शादी

सूचना के आधार पर की गई कार्रवाई

पुलिस इंस्पेक्टर अमरनाथ विश्वकर्मा ने बताया कि मधुबन नगर के एक मकान में लगातार गलत काम होने की सूचना मिल रही थी. जिसके चलते स्थानीय लोगों से इस संबंध में जानकारी की गई तो मामला सही होने की जानकारी होने पर छापेमारी की गई. जिसमें सेक्स रैकेट चलने का खुलासा हुआ. पुलिस ने छापे मारी के दौरान रैकेट की संचालिका समेत 9 लोगों को गिरफ्तार किया है.

गठबंधन को राजी नहीं हुए अखिलेश तो प्रसपा अकेले 403 सीटों पर लड़ेगी UP चुनाव: शिवपाल यादव

मोबाइल से हो रहा था संचालन, हर दो महीने में बदल देते मकान

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार संचालिका ने पूछताछ में बताया कि वो मोबाइल की मदद से सेक्स रैकेट चलाती थी. वहीं, पुलिस से बचने के लिए हर दो महीने में घर बदल देती थी, ताकि पुलिस की कार्रवाई से बच सके. नए ठिकाने की जानकारी ग्राहकों को फोन के जरिए ही दे दी जाती थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें