खुशखबरी! NHAI ने खत्म की फास्टैग में मिनिमम बैलेंस की अनिवार्यता

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Feb 2021, 10:56 PM IST
  • नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने फास्टैग के मामले में एक अहम फैसले लिया है. अब फास्टैग में मिनिमम बैलेंस रखने की जरूरत नहीं है. यह सुविधा सिर्फ कार, जीप या वैन (Car, Jeep, Van) के लिए ही है. ये सुविधाएं कमर्शियल व्हीकल के लिए नहीं है.
खुशखबरी! NHAI ने खत्म की फास्टैग में मिनिमम बैलेंस की अनिवार्यता

लखनऊ: अगर आपके पास निजी वाहन है तो आपके लिए ये खबर बहुत ही महत्वपूर्ण है. क्योंकि नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने फास्टैग के मामले में एक अहम फैसले लिया है. अब फास्टैग में मिनिमम बैलेंस रखने की जरूरत नहीं है. यह सुविधा सिर्फ कार, जीप या वैन (Car, Jeep, Van) के लिए ही है. ये सुविधाएं कमर्शियल व्हीकल के लिए नहीं है.

बैंकों द्वारा अब नहीं किया जायेगा अनिवार्य

नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया से मिली जानकारी के अनुसार अब फास्टैग बनाने वाले बैंक सिक्योरिटी डिपॉजिट के अलावा कोई न्यूनतम राशि रखना अनिवार्य नहीं कर सकते. बहुत सारे बैंक फास्टैग में सिक्योरिटी डिपॉजिट के अलावा मिनिमम बैलेंस रखना अनिवार्य कर दिया था. किसी बैंक 150 रुपये तो किसी बैंक 200 रुपये का मिनिमम बैलेंस रखना अनिवार्य कर दिया था . मिनिमम बैलेंस अनिवार्य होने की वजह से कई FASTAG यूजर को अपने FASTAG वॉलेट में पर्याप्त शेष होने राशि के बावजूद, टोल प्लाजा से गुजरने की अनुमति नहीं मिलती थी. इसके वजह से वाहन स्वामियों और टोलकर्मियों में नोकझोक होते रहता था.

200 साल का विश्वास और उच्च क्वालिटी की मिठास, अवध की नजाकत: राम आसरे स्वीट्स

अगर फास्टैग वॉलेट में पर्याप्त बलैंस है तो नहीं रुकेगी गाड़ी

NHAI ने फैसला किया है कि , वाहन स्वामियों को टोल प्लाजा से गुजरने तबतक अनुमती होगी जबतक उसके वॉलेट में पर्याप्त बैलेंस होगा. जब तक कि फास्टैग वॉलेट में बैलेंस माइनस नहीं हो जाता है. यदि फास्टैग अकाउंट में कम पैसे हैं तो भी कार को टोल प्लाजा पार करने की अनुमति होगी. भले ही टोल प्लाजा पार करने के बाद फास्टैग अकाउंट निगेटिव क्यों नहीं हो जाए. यदि ग्राहक उसे रिचार्ज नहीं करता है तो निगेटिव अकाउंट की रकम बैंक सिक्योरिटी डिपॉजिट से वसूल कर सकता है.

CM योगी का ऑर्गेनिक खेती पर जोर, ड्रैगन फ्रूट महोत्सव का भी होगा आयोजन

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें