UP में प्रवासी मजदूरों की वापसी के लिए दिशा-निर्देश जारी, जानिए

Smart News Team, Last updated: Thu, 15th Apr 2021, 10:35 AM IST
  • कोरोना फैलने के खतरे को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने दिशा निर्देश जारी किए हैं.
लॉकडाउन में घर वापसी की ओर प्रवासी

लखनऊ। देश भर में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के चलते एक बार फिर प्रवासी कामगारों के वापस अपने स्थान पर लौटने की उम्मीद की जा रही है. प्रवासी मजदूरों के एक जगह से दूसरी जगह पर जाने से कोरोना फैलने का खतरा और अधिक बढ़ जाएगा. इसी खतरे को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने दिशा निर्देश जारी किए हैं.

जारी की गई गाइडलाइन के मुताबिक प्रवासियों के आगमन के बाद जिला प्रशासन के द्वारा उनकी स्क्रीनिंग कराई जाएगी. स्क्रीनिंग में किसी भी प्रकार के लक्षण पाए जाने पर इन्हें क्वारंटाइन में रखा जाएगा तथा जांच करवाने के बाद यदि वह संक्रमित पाया जाता है तो उसे कोविड अस्पताल या घर पर आइसोलेट किया जाए. जो लक्षण वाले व्यक्ति संक्रमित नहीं पाए जाते हैं उन्हें 14 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन में भेज दिया जाएगा. लक्षण विहीन व्यक्ति 7 दिन तक होम क्वारंटाइन में रहेंगे.

लखनऊ। देश भर में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के चलते एक बार फिर प्रवासी कामगारों के वापस अपने स्थान पर लौटने की उम्मीद की जा रही है. प्रवासी मजदूरों के एक जगह से दूसरी जगह पर जाने से कोरोना फैलने का खतरा और अधिक बढ़ जाएगा. इसी खतरे को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने दिशा निर्देश जारी किए हैं.

जारी की गई गाइडलाइन के मुताबिक प्रवासियों के आगमन के बाद जिला प्रशासन के द्वारा उनकी स्क्रीनिंग कराई जाएगी. स्क्रीनिंग में किसी भी प्रकार के लक्षण पाए जाने पर इन्हें क्वारंटाइन में रखा जाएगा तथा जांच करवाने के बाद यदि वह संक्रमित पाया जाता है तो उसे कोविड अस्पताल या घर पर आइसोलेट किया जाए. जो लक्षण वाले व्यक्ति संक्रमित नहीं पाए जाते हैं उन्हें 14 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन में भेज दिया जाएगा. लक्षण विहीन व्यक्ति 7 दिन तक होम क्वारंटाइन में रहेंगे.|#+|

प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल यादव ने कहा- कोरोना संक्रमण के कारण यूपी बोर्ड परीक्षाओं को आगे बढ़ाए योगी सरकार

इसके अलावा जनपद में पहुंचने के बाद प्रवासी व्यक्तियों के जनपद में स्थापित क्वारंटाइन सेंटर में आगमन पर प्रभारी द्वारा इन व्यक्तियों के नाम, पता व मोबाइल नंबर आदि संपूर्ण विवरण अंकित करने के लिए अनिवार्य रूप से एक रजिस्टर बनाया जाए. इस रजिस्टर में आश्रय स्थल में आने वाले एवं आश्रय स्थल से अपने घर जाने वाले प्रत्येक प्रवासी का संपूर्ण विवरण दर्ज किया जाए. इस रजिस्टर पर उन प्रवासियों के हस्ताक्षर भी प्राप्त करवाई जाए. बिना पूरे विवरण प्राप्त किए किसी भी व्यक्ति को आश्रय स्थल से ना जाने दिया जाए.

CM योगी ने रेमडेसिविर की कमी पर लिया बड़ा फैसला, गुजरात से मंगाए 25हजार इंजेक्शन

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें