यूपी में हैंडपंप से बरस रही 'आफत', पानी में पाए जा रहे बेहद हानिकारक तत्व

Smart News Team, Last updated: Sun, 14th Feb 2021, 4:13 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के कई जिलों में इन दिनों हैंडपंप से सेहत के लिए बेहद खतरनाक पानी निकल रहा है. इस पूरे मामले में राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण यानि NGT ने यूपी जल निगम और पंचायती राज विभाग को समस्या के निपटारे का निर्देश दिया है.
हैंडपंपों से निकल रहा हानिकारक पानी

लखनऊ: यूपी में इन दिनों हैंडपंप से निकलने वाला पानी सेहत के लिए काफी नुकसानदायक साबित हो रहा है. स्वास्थ्य की दृष्टि से इसमें आर्सेनिक, क्रोमियम, आयरन और पारे जैसे बेहद हानिकारक तत्व पाए जा रहे हैं. वहीं इस पूरे मामले में राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण यानि NGT ने उत्तर प्रदेश जल निगम और पंचायती राज विभाग को समस्या के निपटारे का निर्देश दिया है.

जल निगम के मुख्य अभियंता गया प्रसाद शुक्ल के मुताबिक पश्चिमी यूपी के 6 जिलों मेरठ, बागपत, शामली, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर और गाज़ियाबाद में आयरन की अधिकता के कारण पानी पीने योग्य नहीं है. इन जिलों में करीब 1000 हैंडपंपों को प्रतिबंधित कर दिया गया है.

पूर्व राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी पीजीआई के आईसीयू वार्ड में शिफ्ट, हालत नाजुक

पूर्वी उत्तर प्रदेश के हैंडपंपों की बात की जाए तो करीब 18 जिलों में आर्सेनिक की अधिकता के कारण 1444 हैण्डपंपों पर पाबंदी लगा दी गई है. जल निगम की ओर से पंचायती राज विभाग को इन प्रतिबंधित हैण्डपंपों की सूची दी गई है ताकि इन्हें उखाड़ा जा सके, लेकिन पंचायती राज विभाग के अफसर ऐसी किसी सूची या पत्र से इंकार कर रहे हैं.

लखनऊ में 57 हजार लोग अंगूठा टेक, पुरुषों के मुकाबले दो गुना ज्यादा महिलाएं निरक्षर, अब पढ़ेंगे

आपको बता दें कि लखनऊ, आज़मगढ़, बहराइच, बलिया, बलरामपुर, बस्ती, चंदौली, देवरिया, गाजीपुर, गोरखपुर, खीरी और कुशीनगर के हैंडपंपों के पानी में आर्सेनिक की मात्रा मानक से ज्यादा पाई गई है. इनके अलावा महाराजगंज, मऊ, सम्भल, संत कबीरनगर, सिद्धार्थनगर और सोनभद्र में भी आर्सेनिक का लेवल बढ़ा हुआ मिला है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें