मुर्गी फार्म में 500 चूजों को मारकर संचालक की गला रेतकर हत्या, खेत में मिला शव

Shubham Bajpai, Last updated: Sun, 17th Oct 2021, 12:10 PM IST
  • यूपी के हरदोई में एक मुर्गी फार्म संचालक की गला रेतकर हत्या कर दी गई. बदमाशों ने संचालक के साथ 500 चूजों को भी मार दिया. घटना की जानकारी मिलते मौके पर पहुंची पुलिस मामले की जांच कर रही है. अभी तक हत्या की कोई वजह सामने नहीं आई है.
मुर्गी फार्म में 500 चूजों को मारकर संचालक की गला रेतकर हत्या, खेत में मिला शव

लखनऊ. यूपी के हरदोई में बदमाशों ने एक मुर्गी फार्म के संचालक की गला रेत कर हत्या कर दी. बदमाशों ने मुर्गी फार्म के 500 चूजों को भी मार दिया. मृतक अखिलेश बघौली थाना क्षेत्र के अंतर्गत गदनपुर के मजरा कुईया का निवासी है और गांव के बाहर फार्म संचालित कर रहा था. घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ फॉरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंच जांच शुरू कर दी. हालांकि अभी हत्या के कारणों का पता नहीं चल सका है.

पत्नी ने शव देख दी जानकारी

परिजनों ने बताया कि अखिलेश शाम को शिवकुमार के साथ फार्म के लिए निकला था, लेकिन देर रात तक घर नहीं लौटा. जिसके बाद सुबह फार्म पर पत्नी मोनिका चाय लेकर गई तो उसने 500 चूजों को मरा देखा और मौके पर अखिलेश के न मिलने पर वो अखिलेश को खोजने लगी. तभी फार्म से थोड़ी दूर धान के खेत में अखिलेश का शव पड़ा था. जिसके बाद उसने परिजनों समेत पुलिस को घटना की जानकारी दी.

RSS नेता इंद्रेश कुमार ने ओवैसी को भारत की एकता और अखंडता के लिए बताया खतरा

धारदार हथियार से किया गया हमला

पुलिस अधिकारी सोमपाल गंगवार ने बताया कि घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस के आलाअधिकारी मौके पर पहुंच घटना की जांच कर रहे हैं. मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. परिजनों की तहरीर के आधार पर कार्रवाई की जाएगी. हालांकि अभी तक हत्या के पीछे की वजह नहीं पता चल सकी है.

योगी सरकार का बड़ा फैसला, कर्मचारियों ने नहीं दिया यह कागज तो गिरेगी गाज

धारदार हथियार से गर्दन पर किया हमला

जानकारी अनुसार, फार्म से हमला होने पर अखिलेश ने भागने की कोशिश की क्योंकि जहां अखिलेश रुकता था वहां खून पड़ा था. अखिलेश हमले के बाद भागा होगा और बदमाशों ने खेत में पकड़ धारदार हथियार से उसकी गर्दन पर हमला किया. जिससे उसकी मौत हो गई. वहीं, फार्म में 1000 में 500 चीजों को भी मार दिया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें