हाथरस गैंगरेप: प्रियंका, मायावती के बाद अखिलेश ने योगी सरकार पर साधा निशाना

Smart News Team, Last updated: Wed, 30th Sep 2020, 12:31 PM IST
हाथरस गैंगरेप मामले में विपक्ष ने योगी सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बुधवार की सुबह योगी सरकार से इस्तीफे की मांग करते हुए जबरन पीड़िता का शव जलाने का आरोप लगाया था.
हाथरस गैंगरेप: प्रियंका, मायावती के बाद अखिलेश ने योगी सरकार पर साधा निशाना

लखनऊ. हाथरस गैंगरेप मामले में विपक्ष ने योगी सरकार पर हमला बोल दिया है जिसमें सबसे पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर प्रशासन पर आरोप लगाया कि उन्होनें पीड़िता के परिवार की बिना सहमति के शव का अंतिम संस्कार कर दिया है. 

प्रियंका गांधी के बाद बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट कर कहा कि "यूपी पुलिस द्वारा हाथरस की गैंगरेप दलित पीड़िता के शव को उसके परिवार को न सौंपकर उनकी मर्जी के बिना व उनकी गैर-मौजूदगी में ही कल आधी रात को अन्तिम संस्कार कर देना लोगों में काफी संदेह व आक्रोश पैदा करता है। बीएसपी पुलिस के ऐसे गलत रवैये की कड़े शब्दों में निन्दा करती है".

मायावती ने कहा  कि, "अगर माननीय सुप्रीम कोर्ट इस संगीन प्रकरण का स्वयं ही संज्ञान लेकर उचित कार्रवाई करे तो यह बेहतर होगा, वरना इस जघन्य मामले में यूपी सरकार व पुलिस के रवैये से ऐसा कतई नहीं लगता है कि गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद भी उसके परिवार को न्याय व दोषियों को कड़ी सजा मिल पाएगी". 

अखिलेश यादव ने ट्वीट कर योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘हाथरस की बेटी बलात्कार-हत्याकांड’ में शासन के दबाव में, परिवार की अनुमति बिना, रात्रि में पुलिस द्वारा अंतिम संस्कार करवाना, संस्कारों के विरुद्ध है. ये सबूतों को मिटाने का घोर निंदनीय कृत्य है. <br><br>भाजपा सरकार ने ऐसा करके पाप भी किया है और अपराध भी’ 

हाथरस गैंगरेप पीड़िता के भाई की मांग के बाद CM योगी ने बनाई SIT, पीएम से हुई बात

जानकारी के लिए बता दें कि सीएम योगी ने तीन सदस्यों की एसआईटी बना दी है जो 7 दिनों में जांच रिपोर्ट दाखिल करेगी. इसी के साथ इस मामले में सीएम ने प्रधानमंत्री मोदी से भी बात की है और अपराधियों पर कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

बता दें कि कल रात हाथरस गैंगरेप की पीड़िता की दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में मौत हो गई थी. मंगलवार की रात 2.30 बजे पुलिस ने पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया. पुलिस पर आरोप है कि उसने लड़की के परिवारवालों को घर में बंद कर दिया था. मृतक के भाई का कहना है कि पुलिस ने उन्हें बिना बताए शव को घर से दूर ले गई. चुपचाप उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें