हाथरस कांड: विवादित पोस्टर पर हंगामा, कांग्रेसी नेता ने सिपाही को टक्कर मारी

Smart News Team, Last updated: 05/10/2020 08:11 AM IST
  • लखनऊ के हज़रगंज में हाथरस कांड के विरोध में प्रियंका सेना नाम से विवादित टिप्पणी लिखे हुए पोस्टर लेकर भाग रहे कांग्रेसी नेता और पूर्व पार्षद ने एक सिपाही को टक्कर मार दी. 
हाथरस कांड: विवादित पोस्टर पर हंगामा, कांग्रेसी नेता ने सिपाही को टक्कर मारी. फाइल फोटो.

लखनऊ. लखनऊ के हज़रगंज में हाथरस कांड के विरोध में प्रियंका सेना नाम से विवादित टिप्पणी लिखे हुए पोस्टर लेकर भाग रहे कांग्रेसी नेता और पूर्व पार्षद ने एक सिपाही को टक्कर मार दी. पुलिस ने पूर्व पार्षद शैलेन्द्र और उसके साथी सलमान को मौके पर ही पकड़ लिया. पुलिस ने शैलेन्द्र के गाड़ी से विवादित पोस्टर बरामद कर लिए हैं. शैलेन्द्र इस बात पर भड़क गया और उसकी हाथापाई पुलिस से हो गई. पुलिस ने शैलेन्द्र के खिलाफ सरकारी कार्यों में बांधा डालने, मारपीट करने के आरोप में केस दर्ज कर लिया है.

इंस्पेक्टर अंजनी पांडेय ने बताया कि रविवार को दोपहर हाथरस की घटना को लेकर कांग्रेस नेता विरोध प्रदर्शन कर रहे थे. प्रदर्शनकारियों ने प्रियंका सेना के नाम से विवादित पोस्टर लगाने की योजना बना रहे थे. इस बात का पता चलने पर पुलिस ने पोस्टर बरामद करने के लिए शैलेन्द्र का पीछा किया. शैलेन्द्र ने गाड़ी भागने की कोशिश की. तेज रफ्तार के कारण शैलेन्द्र की गाड़ी सिपाही राहुल कुमार से टक्करा गई. पुलिस ने इस दौरान शैलेन्द्र को पकड़ लिया. शैलेन्द्र पुलिस से उलझ गया. वह मारपीट करने लगा. चौकी प्रभारी ने हादसे के दौरान मौजूद शैलेंद्र तिवारी और उसके साथी सलमान को गिरफ्तार कर लिया.

हाथरस के बाद बलरामपुर रेप पर सख्त CM योगी, आरोपियों पर NSA लगाने का आदेश

प्रियंका सेना के नाम से इस विवादित पोस्टर में लिखा था कि बेटियों की कमर पर अब करधन नहीं, पिस्टल, कटार और तलवार की जरूरत. साथ ही योगी सरकार को बर्खास्त करने की बात लिखी गई थी. 

हाथरस कांडः सीएम योगी का विपक्ष पर हमला, बोले- यूपी में दंगे भड़काना चाहता है विपक्ष

बता दें कि हाथरस जिले के चंदपा गांव में 14 सितंबर को 19 साल की दलित युवती के साथ गैंगरेप के किया गया था. इस दौरान रीढ की हड्डी तोड़ दी गई और उसकी जीभ काट दी गई. दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान गैंगरेप पीड़िता की मौत हो गई. मंगलवार की देर रात पुलिस ने युवती का अंतिम संस्कार कर दिया गया. इसमें पीड़िता के परिवालों ने आरोप लगाया कि उन्हें बिना बताएं और जबरन उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया. इसके बाद विपक्षी नेता मायावती, प्रियंका और राहुल गांधी समेत कई नेता योगी सरकार पर सवाल उठा रहे हैं. पूरे देश में यूपी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें