पीड़ित परिवार से मिलने हाथरस पहुंचे RLD उपाध्यक्ष जयंत चौधरी पर लाठीचार्ज

Smart News Team, Last updated: 04/10/2020 06:46 PM IST
  • हाथरस पहुचे आरलेडी नेता जयंत चौधरी पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया. कार्यकर्ताओं ने सुरक्षा कवच बनाकर जयंत चौधरी को पुलिस के लाठीचार्ज से बचाया.
हाथरस मामले की पीड़िता के परिजनों से मिलने पहुंचे आरएलडी नेता जयंत चैधरी पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया.

लखनऊ. हाथरस मामले को लेकर राजनीतिक सरगर्मी बढ़ती ही जा रही है. पूरे देश में इसको लेकर विरोध प्रदर्शन भी हो रहे हैं. इसी बीच रविवार को हाथरस गैंगरेप पीड़िता से मिलने जा रहे आरएलडी नेता जयंत चौधरी और कार्यकर्ताओं पर पुलिस डंडे चलाने लगी. जयंत चौधरी को कार्यकर्ताओं ने चारों तरफ से घेरकर लाठीचार्ज से बचाया.

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के बाद हाथरस गैंगरेप पीड़िता से मिलने के लिए कई नेता हाथरस जा रहे हैं. रविवार को समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के नेता भी पीड़िता के परिवार से मिलने के लिए निकले.

हाथरस कांड को लेकर आगरा में मचा बवाल, हुआ पथराव, पुलिस ने खदेड़ा

राष्ट्रीय लोकदल के नेता जयंत चौधरी भी हाथरस गैंगरेप पीड़िता से मिलने पहुंचे. रास्ते में जब वो मीडिया से बात कर रहे थे. तभी अचानक पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया. जिससे आसपास अफरा-तफरी मच गई. जयंत चौधरी भी लाठीचाॅर्ज से बचने के लिए आगे भागे. जब पुलिस उनकी ओर फिर से लाठी बरसाने आई तो कार्यकर्ताओं ने उनको चारों तरफ से घेर लिया. कार्यकर्ता पुलिस के डंडे खाते रहे लेकिन अपने नेता को कुछ नहीं होने दिया.

हाथरस गैंगरप केस के विरोध में वाल्मीकि समाज ने रोके सफाई कर्मचारी, दो गिरफ्तार

इस घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर सामने आया है. जिसमें दिख रहा है पूर्व सांसद और आरएलडी नेता जयंत चौधरी मीडिया से बात कर रहे हैं. तभी अचानक पुलिस लाठी बरसाते हुई दिखाई देती है. जयंत चौधरी और अन्य कार्यकर्ता भागने लगते हैं. थोड़ी दूर पर कार्यकर्ता जयंत चौधरी को पुलिस की लाठियों से बचाने के लिए सुरक्षा कवच बना लेते हैं.

 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने सीबीआई को सौंपी हाथरस गैंगरेप की जांच

इस मामले को लेकर पुलिस ने कहा कि काफी संख्या में पहुंचे कार्यकर्ताओं ने हंगामा शुरू कर दिया और बैरेकेडिंग तोड़ दी. जिसके बाद पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा. वहीं हाथरस सदर के एसडीएम प्रेम प्रकाश मीणा ने कहा कि गांव में अभी 5 से अधिक लोगों के प्रतिनिधिमंडल को जाने की इजाजत नहीं है. हमें समाजवादी पार्टी और आरएलडी के 5 लोगों के नाम मिले थे. कार्यकर्ताओं ने पत्थरबाजी की और बैरिकेडिंग तोड़ डाली. जिसके बाद भीड़ को नियंत्रण में करने के लिए लाठीचार्ज करना पड़ा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें