हाथरस केस की HC में सुनवाई, 2 नवंबर अगली तारीख, पीड़ित परिवार की तीन डिमांड

Smart News Team, Last updated: 12/10/2020 07:21 PM IST
  • हाथरस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में सुनवाई पूरी हो गई है. कोर्ट में अगली सुनवाई 2 नवंबर को की जाएगी. सुनवाई के दौरान अदालत में मौजूद पीड़ित परिवार ने तीन मांग की है.
हाथरस केस: पीड़ित परिवार की मौजूदगी में हाईकोर्ट में सुनवाई पूरी

लखनऊ. यूपी के इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में हाथरस मामले की सुनवाई पूरी हो गई है. जज पंकज मित्तल और जज राजन रॉय की खंडपीठ के समक्ष सुनवाई पूरी हुई. कोर्ट ने पीड़ित परिवार और अधिकारियों का पक्ष सुना. कोर्ट में हाथरस डीएम ने कहा कानून व्यवस्था के मद्देनजर रात के समय अंतिम संस्कार का फैसला लिया गया था. डीएम ने साफ किया कि कोई ऊपरी दबाव नहीं था. न्यायालय ने सभी पक्षों को सुना, हालांकि कोर्टरुम में ऑर्डर डिक्टेट नहीं किया है. मामले की अगली सुनवाई 2 नवंबर को की जाएगी.

सुनवाई के लिए हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ पहुंचे पीड़ित परिवार ने सीबीआई की रिपोर्ट सार्वजनिक न करने की मांग की. साथ ही केस की जांच को उत्तर प्रदेश से बाहर सुनवाई की मांग की है. साथ ही पीड़ित परिवार की ओर से केस खत्म होने तक सिक्योरिटी की मांग की गई है. पीड़ित परिवार की वकील सीमा कुशवाहा ने इस बात की जानकारी दी. 

31161 शिक्षक भर्ती की लिस्ट जारी, जानें किस तारीख को मिलेगा नियुक्ति पत्र

पीड़ित परिवार की अधिवक्ता सीमा कुशवाहा ने कोर्ट में यह भी कहा कि परिवार ने प्रशासन पर आरोप लगाया कि बिना सहमति के अंतिम संस्कार किया गया.

मालूम हो कि पीड़िता का परिवार एसडीएम अंजली गंगवार, सीओ शैलेंद्र बाजपेयी, हाथरस के डीएप प्रवीण लक्ष्यकार और एसपी भी परिवार के साथ लखनऊ पहुंचे थे.

गोंडा पुजारी हमले पर बोलीं मायावती- UP की योगी सरकार में संत भी सुरक्षित नहीं

यूपी के डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी भी कोर्ट पहुंच. हाईकोर्ट में हर जगह पुलिस और पीएसी तैनात है. मामले की सुनवाई 2.15 पर जस्टिस राजन रॉय और जस्टिस पंकज मित्तल की पीठ ने शुरू की. सुनवाई के समय परिवार के साथ इस केस से जुड़े अधिकारी ही मौजूद रहे. किसी को भी सुनवाई के समय अदालत में प्रवेश नहीं दिया जाएगा.

हाईकोर्ट के बाहर भारी पुलिस और पीएसी तैनात.
हाथरस पीड़िता का परिवार हाईकोर्ट पहुंचा.

बता दें कि हाथरस कांड में जांच की कमान सीबीआई को सौंप दी गई थी. जिसके बाद एक आरोपी पर एफआईआर भी दर्ज की गई है.  

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें