हाईकोर्ट में आम्रपाली ग्रुप के CMD अनिल शर्मा और ऑडिटर की जमानत याचिका खारिज

Smart News Team, Last updated: Tue, 15th Dec 2020, 9:31 PM IST
  • हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने आम्रपाली ग्रुप ऑफ कम्पनीज के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर अनिल शर्मा और सांविधिक ऑडिटर अनिल मित्तल की जमानत याचिकाएं खारिज कर दी हैं. न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि काले धन को वैध बनाने का अपराध बहुत ही गंभीर है.
कोर्ट ने आदेश में कहा कि काले धन को वैध बनाने का अपराध बहुत ही गंभीर है. (प्रतिकात्मक फोटो)

लखनऊ- हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने आम्रपाली ग्रुप ऑफ कम्पनीज के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर अनिल शर्मा और सांविधिक ऑडिटर अनिल मित्तल की जमानत याचिकाएं खारिज कर दी हैं. न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि काले धन को वैध बनाने का अपराध बहुत ही गंभीर है. इस प्रकार का अपराध राष्ट्र की अर्थव्यवस्था के लिए भी गंभीर खतरा पैदा करता है.

न्यायमूर्ति दिनेश कुमार सिंह की एकल सदस्यीय पीठ ने अनिल कुमार शर्मा व अनिल मित्तल की अलग-अलग याचिकाओं को खारिज करते हुए पारित किया. बताते चलें कि आम्रपाली ग्रुप के खिलाफ 23 जुलाई 2019 के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत जांच चल रही है. प्रवर्तन निदेशालय ने कम्पनी के अधिकारियों के खिलाफ मनी लॉंड्रिंग एक्ट के तहत केस दर्ज कर रखा है. कम्पनी पर नोएडा व ग्रेटर नोएडा में फ्लैट व घर खरीदारों का पैसा हड़पने का आरोप है.

दुल्हन घर लेकर पहुंचा दूल्हा, दरवाजे पर पुलिस लेकर पहुंची प्रेमिका, फिर हुआ ये...

कोर्ट ने दोनों याचिकाओं पर अलग-अलग आदेश पारित करते हुए कहा कि 23 जुलाई 2019 के आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने बारीकी से उजागर किया था कि किस प्रकार कम्पनी ने लोगों के साथ धोखा किया है. साथ ही इस मामले की विवेचना अभी चल रही है और पैसे का पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है.

PWD कर्मचारी को बाइक सवार बदमाशों ने मारी गोली, हालत गंभीर, पुलिस कर रही जांच

 

लखनऊ: होटल-रेस्त्रां में कोरोना रोकने के लिए अफसर सजग

LPG घरेलू गैंस सिलेंडर 50 रूपए महंगा, कामर्शियल सिलेंडर के भी बढ़े दाम

आवास विकास परिषद की अयोध्या योजना में फंसा पेच

1 जनवरी से बिना फास्ट टैग के टोल प्लाजा से नहीं निकल सकेंगे वाहन

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें