हाईवे पर अगर उड़ाई कार तो 'शूट' करेगी परिवहन विभाग की ये गन, ऐसे कटेगा चालान

Shubham Bajpai, Last updated: Sun, 21st Nov 2021, 6:09 PM IST
  • यूपी परिवहन विभाग अब प्रदेश में तेज रफ्तार वाहनों पर रोक लगाने के टेक्निक का सहारा लेने जा रहा है. विभाग जल्द स्पीड रडॉर गन की खरीद करने जा रहा है. जिसके जरिए परिवहन विभाग न सिर्फ वाहनों की स्पीड नाप सकेगा बल्कि तेज रफ्तार वाहनों के ऑनलाइन चालान भी काट लेगा.
हाईवे पर अगर उड़ाई कार तो 'शूट' करेगी परिवहन विभाग की ये गन, ऐसे कटेगा चालान (फोटो सभार लाइव हिंदुस्तान)

लखनऊ. यूपी में अब तेज रफ्तार वाहनों पर जल्द ही रोक लगने वाली है. अब तेज रफ्तार गाड़ियों के चालान काट विभाग उनके फोन में भेजेगा. जिससे तेज रफ्तार गाड़ियों पर रोक लग सकती है. यूपी परिवहन विभाग स्पीड रडॉर गन खरीदने जा रहा है. जिसके जरिए आरटीओ आसानी से वाहन की स्पीड चेक कर उस पर चालानी कार्रवाई कर सकेगा.

बता दें कि हर साल तेज रफ्तार के चलते कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ती है. जिसको लेकर लगातार परिवहन विभाग लगातार प्रयास कर रहा है कि स्पीड कम की जा सकी.

22 नवंबर को किसान महापंचायत, राकेश टिकैत बोले- कृषि कानून के बाद भी कई मुद्दे बाकी

स्पीड रडॉर से पहुंच जाएगा मोबाइल पर चालान

आरटीओ विभाग तेज रफ्तार गाड़ियों के चालान करने के लिए स्पीड रडॉर गन खरीदने जा रहा है. इसके जरिए आरटीओ की चेकिंग टीम आसानी से तेज रफ्तार गाड़ी का चालान आसान से कर सकेगी. इसके जरिए चालान कटते ही गाड़ी मालिक के मोबाइल नंबर पर ओवर स्पीड का ब्योरा समेत चालान के धनराशि का मैसेज पहुंच जाएगा.

प्रदेश में 39.2 फीसदी हादसे की वजह तेज रफ्तार

जानकारी अनुसार, प्रदेश में हो रहे सड़क हादसों में 39.2 फीसदी हादसे सिर्फ तेज रफ्तार की वजह से हो रही है. अभी वर्तमान में विभाग के पास तेज रफ्तार वाहनों पर नियंत्रण करने के लिए मात्र 6 वाहन हैं. जिससे स्थिति पर नियंत्रण न हो पा रहा है. जिसके बाद अब स्पीर रडॉर गन खरीद कर उसके जरिए कार्रवाई की तैयारी की जा रही है.

बाहुबली मुख्तार पर एक और कार्रवाई, पत्नी के नाम तीन करोड़ की संपत्ति कुर्क करेगी सरकार

गन से वीडियो समेत चालान दोनों हो जाएगा

स्पीड रडॉर गन के जरिए वाहनों की गति नापने के साथ जो वाहन तेज गति से दौड़ रहे हैं उनका मौके पर चालान कर दिया जाएगा. स्पीड रडॉर ऐसे वाहनों के वीडियो भी बना लेगा, जिसको बाद में चालक को बतौर सबूत दिखाया जा सकता है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें