यूपी में योगी सरकार की महिला विधवा पेंशन योजना, स्कीम की फुल डिटेल्स

ABHINAV AZAD, Last updated: Sat, 28th Aug 2021, 6:34 PM IST
  • इस योजना का मकसद विधवा महिलाओं की मदद करना है ताकि वह बेहतर तरीके से अपना जीवनयापन कर सकें. उत्तर प्रदेश सरकार की इस योजना का लाभ लेने के लिए उम्र सीमा 18 वर्ष से 60 वर्ष निर्धारित की गई है.
उत्तर प्रदेश सरकार ने विधवा महिलाओं की मदद के लिए विधवा पेंशन योजना की शुरूआत की है.

लखनऊ. विधवा महिलाओं की मदद के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने निराश्रित महिला पेंशन योजना की शुरूआत की. इस योजना को महिला विधवा पेंशन योजना के नाम से भी जाना जाता है. दरअसल, इस योजना का मकसद विधवा महिलाओं की मदद करना है ताकि वह बेहतर तरीके से अपना जीवनयापन कर सकें. उत्तर प्रदेश सरकार की इस योजना का लाभ लेने के लिए उम्र सीमा 18 वर्ष से 60 वर्ष निर्धारित की गई है.

उत्तर प्रदेश सरकार की यह योजना उन महिलाओं के लिए शुरू की गई जिनके पति की किसी कारणवश मौत हो चुकी है. उत्तर प्रदेश सरकार ऐसी महिलाओं को 500 रूपये हर माह पेंशन के तौर पर देती है ताकि वे सभी महिलाएं अपना गुजारा अच्छे से कर सकें. महिला विधवा पेंशन योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक विधवा महिला का उत्तर प्रदेश राज्य की स्थायी निवासी होना जरूरी है. आवेदिका की आयु 18 वर्ष से कम और 60 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए.

राष्‍ट्रीय पार‍िवार‍िक लाभ योजना: परिवार के मुख‍िया की मौत पर 30 हजार रुपये देती है सरकार, जानिए योजना

महिला विधवा पेंशन योजना के लिए आवेदिका को आधार कार्ड के अलावा राशन कार्ड, मतदाता पत्र, आय प्रमाण पत्र, बैंक खाता पासबुक, जन्म प्रमाण पत्र जमा करना जरूरी है. जबकि इसके अलावा मोबाइल नंबर, पासपोर्ट साइज फोटो और पति का मृत्यु प्रमाण पत्र भी देना जरूरी है. साथ ही आवेदिका एंव उसके परिवार की वार्षिक आय सीमा समस्त स्रोतों से 2 लाख रुपये प्रतिवर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए. साथ ही आवेदिका राज्य अथवा केन्द्र सरकार की किसी अन्य योजना से पेंशन का लाभ नहीं ले रही हो.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें