UP में दर-दर नहीं भटकेंगे कोविड मरीज, अस्पतालों में लगेगी बेड की फुल लिस्ट

Smart News Team, Last updated: Tue, 20th Apr 2021, 10:36 PM IST
  • कोरोना मरीजों को अस्पताल में बेड के लिए दर-दर नहीं भटकना पड़ेगा. उत्तर प्रदेश मानवाधिकार आयोग ने मंगलवार को अस्पतालों को नोटिस बोर्ड पर बेडों की लिस्ट लगाने को निर्देश दिया है. सभी अस्पताल कोरोना मरीजों के लिए हर रोज खाली बेडों की लिस्ट भी नोटिस बोर्ड पर लगाएगा.
यूपी मानवाधिकार आयोग ने अस्पतालों को बेड की लिस्ट चस्पा करने के निर्देश दिए. प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ. यूपी में कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से लोग अस्पतालों में मरीज को भर्ती कराने के लिए काफी परेशान हो रहे हैं. इसको देखते हुए उत्तर प्रदेश मानवाधिकार अयोग ने मंगलवार को आदेश जारी किया है. जिसके मुताबिक, प्रदेश के सभी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को हर रोज हॉस्पिटल के बाहर बेडों की लिस्ट लगानी होगी. इससे लोगों को दर-दर भटकना नहीं होगा.

यूपी मानव अधिकार आयोग के जारी हुए आदेश में कहा गया है कि सभी अस्पताल अपने हॉस्पिटल के बाहर नोटिस बोर्ड पर ये डिस्पलें करें कि उनके यहां कोविड और नॉन कोविड वार्ड में अलग-अलग कितने बेड उपलब्ध हैं. इसके अलावा कितने बेड मरीजों के लिए खाली हैं जिन पर मरीजों की भर्ती की जा सकती है. इस बारे में हर रोज नोटिस पर बताएं.

योगी कैबिनेट का बड़ा फैसला- फ्री लगाई जाएगी 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीन

मानवाधिकार आयोग ने कोविड के मरीजों को अस्पतालों में भर्ती करने के लिए मुख्य चिकित्साधिकारी के रेफरेल लेटर पर तत्काल समीक्षा की जाए और अनिवार्यता खत्म करने का निर्देश दिया. आयोग के आदेश के मुताबिक, अस्पतालों के विशेषज्ञ डॉक्टरों को अपने विवेक के आधार पर खाली बेड पर कोविड मरीज के भर्ती किए जाने के निर्देश दिए जाएं. इस आदेश में कहा गया कि कई अस्पताल बेड की जानकारी नोटिस बोर्ड पर नहीं लगा रहे हैं. जिससे मरीज अस्पताल आकर भी भटक रहे हैं.

UP में इलाज, जांच के आंकड़ों में अटकलबाजी, CM योगी ने जनता को धोखा दिया: अखिलेश

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण से हालात भयावह होते जा रहे हैं. बीते 24 घंटे में प्रदेश में कोरोना के 28 हजार 211 नए केस सामने आए हैं. वहीं 10 हजार 978 कोरोना मरीज पूरी तरह से ठीक होकर घर लौट चुके हैं. यूपी में पिछले 24 घंटे में कोरोना से 167 लोगों की मौत हो चुकी है. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें