कोरोना का असर: पति और पत्नी के बीच 70 फीसदी बढ़ गए झगड़े

Smart News Team, Last updated: Fri, 18th Jun 2021, 8:57 AM IST
  • कोरोना महामारी के दौरान लॉकडाउन में पति और पत्नी के बीच झगड़ों के मामले 70 फीसद तक बढ़ गए हैं. लखनऊ यूनिवर्सिटी के मनोविज्ञान विभाग में हुए शोध में यह तथ्य सामने आया है. 
लॉकडाउन में पति-पत्नी के बीच झगड़े बढ़ गए हैं.

लखनऊ. कोरोना महामारी के दौरान लॉकडाउन लगाए जाने के बाद से ज्यादातर लोग अपने घरों में कैद हो गए. इसका नाकारात्मक असर पति और पत्नी के संबंधों पर पड़ा है. कोरोना में पति और पत्नी के बीच झगड़ों के मामले 70 फीसद तक बढ़ गए हैं. इसके अलावा छात्रों की चिंता भविष्य के प्रति बढ़ने से उनमें डिप्रेशन बढ़ गया है.

लखनऊ यूनिवर्सिटी के मनोविज्ञान विभाग ने कोरोना काल में 350 परिवारों की काउंसलिंग में यह तथ्य पाया कि 70 फीसदी पति और पत्नी के बीच झगड़े बढ़ गए हैं. मनोविज्ञान विभाग की को-आर्डिनेटर डॉ. अर्चना शुक्ला बताती हैं कि पति, पत्नी और बच्चों की कांउसलिंग के दौरान सबसे ज्यादा रिश्तों पर असर पड़ा है. उन्होंने बताया कि एमए की छात्रा ने कोरोना में अपनी मां को खोया तो वह खुद को बहुत अकेली समझने लगी. एमए के बाद उसने पीएचडी की सोची थी, लेकिन वह डिप्रेशन में वह फॉर्म तक नहीं भर सकी. उसकी काउंसलिंग 6 चरणों में हुई.

सावधान: महिला को 63 हजार की पड़ी पिज्जा की होम डिलीवरी, आप नहीं कर देना ये गलती

मनौवैज्ञानिक डॉ. अर्चना शुक्ला ने बताया कि हम अपने जीवन के दौरान छोटी-छोटी बातों पर ध्यान नहीं देते हैं, लेकिन लॉकडाउन में घर में कैद होने से ये मामले बड़ा रूप धारण कर लेते हैं. जब इंसान डिप्रेशन में होता है तो उसे हर छोटी-बड़ी बात पर गुस्सा आ जाता है.

मायावती की BSP के बागी MLA से हाथ मिलाकर कदम क्यों नहीं बढ़ा रहे अखिलेश यादव ?

उन्होंने बताया कि कोरोना का असर लोगों पर ऐसा रहा कि पति-पत्नी के बीच झगढ़े में वृध्दि हुई, बाप-मेटे में मनमुटाव बढ़ा, छात्र अपने भविष्य को लेकर चिंतित दिखे, परिवार को सदस्य को नहीं बचा पाने के कारण लोग डिप्रेशन में आ गए और लड़कियों को शादी की चिंता बढ़ी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें