लखनऊ: पहले व्हाट्सएप पर तीन तलाक दिया, फिर चलती बाइक से गिराया, मौत, केस दर्ज

Smart News Team, Last updated: 16/10/2020 09:15 AM IST
  • लखनऊ के मोहनलालगंज में ससुराल में बेची गई जमीन को लेकर एक पति ने अपनी पत्नी को व्हाट्सएप पर तीन तलाक दे दिया. 
पति ने अपनी पत्नी को व्हाट्सएप के जरिए ऑडियो क्लिप भेजकर तीन तलाक दिया.

लखनऊ. यूपी की राजधानी लखनऊ के मोहनलालगंज में तीन तलाक का मामला सामने आया है. ससुराल में बेची गई जमीन को लेकर विवाद इतना बढ़ गया कि शीबू ने अपनी पत्नी रेशमा को व्हाट्सएप के जरिए तीन तलाक दे दिया. आरोपी पति पर आरोप है कि इक से गिराकर उसने पत्नी की हत्या कर दी. पुलिस ने पत्नी की भाई की तहरीर के आधार पर शीबू के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है.

गुरुवार की सुबह शीबू ने अपने बेटे जीशान को डॉक्टर के पास ले जाने के लिए बोला था. रेशमा भी साथ में जाने के लिए तैयार हो गई. जानकारी के अनुसार घर से बाइक पर पति और पत्नी सवार होकर निकले. आरोप है कि कुछ ही दूरी पर शीबू ने चलती बाइक से पत्नी रेशमा को धक्का देकर गिरा दिया. रेशमा को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. 

लखनऊ: दारोगा की बेटी से शोहदे ने की छेड़छाड़, भेजे अश्लील मेसेज , शिकायत दर्ज

रेशमा के पिता कुरबान खान ने बताया कि गुरुवार शाम में सिसेंडी में दोनों के बीच में हुए विवाद को लेकर पंचायत होनी थी. इसमें शामिल होने के लिए शीबू अपने छोटे बेटे को लेकर बुधवार को ससुराल में पहुंचा था.

डेंगू का कहर शुरू, फॉगिंग के नाम पर लखनऊ नगर निगम कर रहा औपचारिकता

रेशमा के भाई इरफान ने मोहनलालगंज कोतवाली में शीबू के खिलाफ तहरीर दी. पुलिस ने तहरीर के आधार पर शीबू के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. कुरबान खान की बेटी रेशमा की शादी 10 साल पहले शीबू से हुई थी. आरोप है कि शादी के बाद से ही शीबू दहेज के लिए रेशमा का उत्पीड़न करता था. उसने कई बार दहेज को लेकर पिटाई भी की थी. 

मुख्तार व उसके बेटों के खिलाफ दर्ज FIR में अंतरिम आदेश लखनऊ बेंच के पास सुरक्षित

रेशमा ने अपने पिता कुरबान खान को बताया था कि शीबू बेच गई जमीन से मिले रुपये में हिस्सा मांग रहा है. मना करने पर शीबू ने कई बार रेशमा की पिटाई भी की. रेशमा के भाई इरफान ने बताया कि सोमवार को जीजा ने व्हाट्सएप के जरिए ऑडियो क्लिप भेजकर तीन तलाक दिया था. इसपर रिश्तेदार दोनों को मनाने की कोशिश कर रहे थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें