अयोध्या में श्रद्धालुओं की बढ़ती भीड़ को देखते हुए प्रवेश द्वार तोड़ने का फैसला

Smart News Team, Last updated: Thu, 8th Jul 2021, 6:36 PM IST
  • श्रद्धालुओं की भीड़ को ध्यान में रखते हुए प्रवेश द्वार को तोड़ने का फैसला किया गया है. इस प्रवेश द्वार के सुरक्षा के लिहाज से मानकों के अनुरूप ना होने के कारण ये निर्णय लिया गया है.
प्रवेश द्वार को तोड़ने का फैसला

लखनऊ: राम की नगरी अयोध्या में आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ को ध्यान में रखते हुए प्रवेश द्वार को तोड़ने का फैसला किया गया है. इस प्रवेश द्वार के सुरक्षा के लिहाज से मानकों के अनुरूप ना होने के कारण ये निर्णय लिया गया है. दरअसल राम मंदिर के निर्माण के बाद यहां आने वाले श्रद्धालुओं के कई गुना और बढ़ने की उम्मीद है.

अयोध्या के नए घाट पर अर्धनिर्मित ये द्वार श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिहाज से ठीक नहीं था. इस प्रवेश द्वार को तोड़ने के लिए पिछले 3 सालों से कोशिश हो रही थी, लेकिन इस बार जिला प्रशासन ने इसे तोड़ने का फैसला किया है.

लखनऊ में बनेंगे दो नए बिजली उपकेंद्र, बिजली व्यवस्था सुधारने पर जोर

नए घाट पर बने प्रवेश द्वार के कारण यहां पहले भी रामनवमी मेले के दौरान हादसा हो चुका है. वहीं अब अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के बाद यहां श्रद्धालुओं की संख्या में इजाफा होगा. इसके अलावा सावन के महीने में कांवड़ यात्रा और सावन झूला मेले को देखने के लिए तमाम लोग यहां आते हैं.

LU में एमफार्मा कोर्स चलाने की तैयारी, विद्या परिषद की बैठक में होगा फैसला

आपको बता दें कि राम मंदिर का निर्माण भव्य तरीके से शुरू हो चुका है. अयोध्या में राम मंदिर के क्षेत्र का विस्तारीकरण भी हो रहा है, जिसके लिए आसपास की जमीन को ट्रस्ट ले रहा है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें