अलर्ट ! समय से जमा कर दें इनकम टैक्स नहीं तो आयकर विभाग कर रहा ये तैयारी

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Wed, 8th Dec 2021, 9:39 AM IST
  • उत्तर प्रदेश के आयकर दाताओं से आयकर विभाग इस वित्तीय वर्ष 14 हजार करोड़ रूपए टैक्स वसूली का लक्ष्य रखा था. चालू वित्तीय वर्ष का 8 महिने बीतने के बाद अभी तक विभाग 7 हजार करोड़ ही टैक्स वसूल पाया है. आयकर विभाग आगामी 4 महिनो में बाकी बचे 7 हजार करोड़ रूपए की राजस्व वसूली करेगा.
प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के आयकर दाताओं से आयकर विभाग इस वित्तीय वर्ष के बचे 4 महिनो में  7 हजार करोड़ रुपए की राजस्व यानी टैक्स वसूली करेगा. चालू वित्तीय वर्ष में सूबे का इनकम टैक्स कलेक्शन देश के बाकी राज्यों के मुकाबले काफी कम है. देश में औसत इनकम टैक्स कलेक्शन 66 फीसदी है. एक तिमाही समय बीतने के बाद यानी करीब 8 से 9 महिने बाद अभी तक चालू वित्तीय वर्ष में तय किए गए लक्ष्य का आधा ही टैक्स कलेक्ट हो पाया है. यह जानकारी प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त (पूर्वी) आशीष वर्मा ने दी है. आयकर आयुक्त वर्मा ने राम तीर्थ स्थित प्रत्यक्ष कर भवन में मंगलवार को कहा कि इस बार 14 हजार करोड़ का लक्ष्य रखा गया था. 

प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त (पूर्वी) ने बताया कि अन्य राज्यों के मुकाबले राजस्व कर वसूली में पीछे रहने का एक बड़ा कारण यह भी है कि उत्तर प्रदेश में कंपनियों की संख्या कम है. फिर भी आयकर विभाग की जांच और अन्वेषण टीम यह पता लगा रही है कि सूबे का कोई आयकर दाता व कारोबारी राजस्व कर देने में गड़बड़ी तो नहीं कर रहा हैं ना. विभाग अपनी तरफ से पूरी कोशिश में लगी है कि प्रदेश के हर एक करदाता को इनकम टैक्स के दायरे में लाया जा सके.

योगी सरकार ने पूरी की स्मार्टफोन व टैबलेट बांटने की तैयारी, इस डेट से वितरण शुरू

गौरतलब है कि कोरोना महामारी ने देश के साथ साथ प्रदेश के उद्योगों को काफी नुकसान पहुंचाया है. प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त (पूर्वी) वर्मा ने बताया कि सबसे ज्यादा प्रभाव इंफ्रास्ट्रक्चर और हस्तशिल्प उद्योग को हुआ है. पिछले वित्तीय वर्ष 2020-21 में राजस्व कर इससे भी नीचे चला गया था. उन्होंने बताया कि अब तक हुई वसूली पिछले साल के मुकाबले 49 फीसदी ज्यादा है. एक साल में 1.63 लाख आयकर दाता बढ़े हैं. बता दें कि आयकर विभाग के पूर्वी जोन में यूपी के 45 और उत्तराखंड के 6 जिले (कुमाऊं मंडल) हैं. इसमें कुल करदाताओं की संख्या 21 लाख है. बताया जा रहा है कि इस साल चालू वित्तीय वर्ष में कुल 1 लाख 63 हजार करदाताओं की संख्या में इजाफा हुआ है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें