UP चुनाव से पहले SP नेताओं पर IT रेड, 154 करोड़ का हवाला कारोबार पकड़ा

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Wed, 22nd Dec 2021, 11:37 AM IST
  • उत्तर प्रदेश से लेकर कर्नाटक तक समाजवादी पार्टी के नेताओं और अन्य के ठिकानों पर आयकर विभाग की अलग-अलग टीमों छापेंमारी गई. इस कार्यवाई के दौरान विभाग को 154 करोड़ रूपए हवाला ट्रांजेक्शन के सबूत मिले हैं.
सपा नेताओं के घर आयकर विभाग का छापा

लखनऊ. उत्तर प्रदेश से लेकर कर्नाटक तक समाजवादी पार्टी और अन्य के ठिकानों पर की गई छापेंमारी में आयकर विभाग को 154 करोड़ के हवाला ट्रांजेक्शन के सबूत मिले हैं.  इस दौरान आयकर विभाग के सामने एक शख्स ने 68 करोड़ रुपए की बेनामी सम्पत्ति रखने की बात स्वीकार की है. इसके आलावा केरल के दो ट्रस्ट में खाड़ी देशों से अवैध रूप से लेन देन का भी आईटी विभाग द्वारा की गई रेड में पता चला है. नाम सामने आने के बाद दोनों ट्रस्ट के ऊपर फेमा (फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट) के तहत कार्रवाई की जा रही है. बता दें कि जिन जगहों पर विभाग ने छापेमारी की है वहां से करीब 1 करोड़ 2 लाख रूपए कैश बरामद किए गए हैं.

आयकर कमिश्नर सौरभ अहलूवालिया के मुताबिक, 18 दिसम्बर को आयकर विभाग की टीमों ने सर्च अभियान चलाकर एक साथ 30 जगहों पर छापेमारी की. इस दौरान विभाग द्वारा व्यक्तियों की सम्पत्तियों, शैक्षणिक व अन्य संस्थाओं की सम्पत्तियों, अचल सम्पत्तियों और सिविल निर्माण की जांच की गई. आयकर विभाग की सर्च अभियान में उत्तर प्रदेश और कर्नाटक के शैक्षणिक संस्थानों में बड़े पैमाने पर वित्तीय अनियमितताएं पकड़ी गईं. इस आईटी रेड की कार्रवाई में कोलकाता से एक एंट्री ऑपरेटर को भी घेरा गया.

खुशखबरी! इलाहाबाद हाइकोर्ट का निर्देश जल्द भरें जाएं मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों के पद

आयकर विभाग के अलग अलग टीमों ने एक साथ यूपी के लखनऊ, मऊ, मैनपुरी, पश्चिम बंगाल के कोलकाता, कर्नाटक के बंगलुरु और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के एनसीआर क्षेत्रों में छापेमारी की. इस दौरान हार्ड कॉपी, डिजिटल डेटा और कई आपत्तिजनक सबूतों को कब्जे में ले लिया गया है. प्रारम्भिक विश्लेषण में पता चला कि कई संस्थाएं फर्जी कारोबार दिखा रही हैं. इनमें करोड़ों रुपए के खर्च दिखाकर टैक्स चोरी हो रही है. छापेमारी में खाली बिल बुक, फर्जी आपूर्तिकर्ताओं के नाम और पते, पहले से साइन की हुई चेक बुक मिली हैं.

आईटी विभाग के सर्च अभियान में एक कंपनी का नाम आया है. रेड के दौरान इस कंपनी के मामले में 86 करोड़ रुपए से अधिक अघोषित आय रखने का खुलासा हुआ है. कार्यवाई की कड़ी में एक शख्स ने 68 करोड़ रुपए की अघोषित आय रखने के लिए स्वीकार किया है. एक और मामले में जांच अभियान में पता चला है कि टैक्स चोरी के लिए मुखौटा कंपनियां बनाई गईं. इनमें 11 करोड़ और बेनामी सम्पत्तियों में 3 करोड़ 5 लाख रुपए के निवेश (इंपोर्ट) का पता चला है. इसके अलावा आईटी विभाग की रेड में 408 करोड़ रुपए के असुरक्षित कर्ज का भी पता चला है.

Viral Video: नकल में मुन्नाभाई का भी बाप निकला ये शख्स, जुगाड़ देख IPS भी रह गए दंग

शेल (मुखौटा) कंपनियों के जरिए 154 करोड़ रुपए का हवाला ट्रांजेक्शन

आयकर विभाग के मुताबिक, शेल (मुखौटा) कंपनियों के जरिए 154 करोड़ रुपए के हवाला ट्रांजेक्शन (मनी लॉन्ड्रिंग) का सबूत मिला है. इसका खुलासा डिजिटल डेटा की छानबीन से सामने आया है. विभाग के जांच अभियान में पता चला है कि हवाला ट्रांजेक्शन के लिए एक शक्स को 5 करोड़ रुपए दिए गए थे.

केरल के दोनों ट्रस्ट पर फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट (FEMA) के तहत कार्रवाई

कर्नाटक के बंगलुरु स्थित ट्रस्ट में चले सर्च आयकर विभाग के अलग अलग टीमों द्वारा चलाए जा रहे सर्च ऑपरेशन से पता चला है कि 80 लाख रुपए केरल के मारकाजू सकफाती सुन्निया ट्रस्ट और मरकज नॉलेज सिटी ट्रस्ट को दिए गए. यह धनराशि ट्रस्टियों को लाभ पहुंचाने के लिए दी गई. इनका कनेक्शन खाड़ी देशों से भी सामने आया है. ट्रस्ट से 10 करोड़ रुपए कैश जब्त किए गए. इसके अलावा ये भी पता चला कि ट्रस्ट के द्वारा 4.8 करोड़ रुपए खर्च किए गए थे. साथ ही टीम को कई गड़बड़ियां  मिली है. इन दोनों ट्रस्ट के खिलाफ FEMA के तहत कार्रवाई की जानी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें