ICSE बोर्ड ने परीक्षा पैटर्न में किया बदलाव, प्रोजेक्ट वर्क समेत ये सिस्टम लागू

Smart News Team, Last updated: 16/12/2020 10:47 AM IST
  • सीआईएससीई ने साल 2021 से इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट (आईएससी) के परीक्षा पैटर्न में बड़ा बदलाव किया है. आईएससी बोर्ड में अब छात्रों को इंग्लिश लैंग्वेज, गणित और हिंदी समेत 12 विषयों में प्रोजेक्ट वर्क का सिस्टम लागू कर दिया गया है.
छात्रों को इंग्लिश लैंग्वेज, गणित और हिंदी समेत 12 विषयों में प्रोजेक्ट वर्क देना होगा.

लखनऊ. काउंसिल ऑफ द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) ने साल 2021 से इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट (आईएससी) के परीक्षा पैटर्न में बड़ा बदलाव किया है. आईएससी बोर्ड में अब छात्रों को इंग्लिश लैंग्वेज, गणित और हिंदी समेत 12 विषयों में प्रोजेक्ट वर्क का सिस्टम लागू कर दिया गया है. इसके अनुसार 100 नंबर के पेपर को दो पार्ट में बांट दिया जाएगा. इसमें एक पार्ट लिखित परीक्षा होगा और दूसरा पार्ट प्रोजेक्ट वर्क का. 

नए नियम के तहत 100 नंबर के पेपर को 80 और 20 नंबर में बांट दिया गया है. मंगलवार को जारी आदेश के मुताबिक पेपर में 80 नंबर की लिखित परीक्षा होगी और 20 नंबर प्रोजेक्ट के आधार पर दिए जाएंगे. द लखनऊ पब्लिक कॉलिजिएट के प्रिंसिपल ने बताया कि इससे पहले 18 विषयों में यह नियम लागू हो चुका है. उन्होंने बताया कि छात्रों के प्रोजेक्ट का मूल्यांकन स्कूल समेत बाहरी परीक्षक भी करेंगे.

'आप' लड़ेगी यूपी विधानसभा चुनाव, दिल्ली CM अरविंद केजरीवाल ने किया बड़ा ऐलान

प्रोजेक्ट वर्क लागू  इन विषयों में लागू किया गया- 

इंग्लिश लैंग्वेज, लिट्रचेर इन इंग्लिश, इंडियन लैंग्वेज, मॉर्डन फॉरेन लैंग्वेज, क्लासिकल लैंग्वेज( अरेबिक, संस्कृत, पार्शियन), इलेक्टिव इंग्लिश, गणित, इलेक्ट्रसिटी एंड इलैक्ट्रानिक्स, इंजीनियरिंग साइंस, जियोमैट्रिकल एंड मैकेनिकल ड्राइंग, जियोमैट्रिकल एंड बिल्डिंग ड्राइंग, हिंदी)

कानपुर, मेरठ, आगरा मेडिकल कॉलेज टेली ICU से जुड़ेंगे, कमांड सेंटर PGI लखनऊ

नए परीक्षा पैटर्न को लेकर अभी तक आईएससी बोर्ड की तरफ से सैंपल पेपर जारी नहीं हुआ है, जिससे छात्रों को परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्न को लेकर परेशानी हो रही है. इसके लिए छात्रों को कुछ दिन का इंतजार करना होगा. हांलाकि, नए परीक्षा पैटर्न जारी होने से छात्रों की तैयारी पर असर पड़ रहा है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें