कासगंज पुलिस कस्टडी में युवक की मौत पर विपक्षी दलों ने योगी सरकार पर साधा निशाना

Shubham Bajpai, Last updated: Wed, 10th Nov 2021, 10:23 PM IST
  • यूपी के कासंगज में एक युवक की पुलिस हिरासत में हुई मौत से प्रदेश का सियासी पारा बढ़ने लगा है. इस मामले में सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने संदेहास्पद बताते हुए मामले के न्यायिक जांच की मांग की है. वहीं, एआईएमआईएम चीफ ओवैसी ने पुलिस वालों की गिरफ्तारी और मृतक के परिवार को मुआवजा देने की मांग की है.
कासगंज पुलिस कस्टडी में युवक की मौत पर हमलावर विपक्ष, अखिलेश बोले निलंबन दिखावा हो जांच

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के कासगंज में पुलिस हिरासत में अल्ताफ की मौत के बाद इस पर प्रदेश में सियासत शुरू हो गई है. यूपी चुनाव 2022 से पहले दूसरा ऐसा मामला सामने आया है जहां पुलिस पर कस्टडी में हत्या का आरोप लगा है जिससे पुलिस के साथ सरकार पर भी सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं. इस बीच विपक्ष इस मामले में यूपी की योगी सरकार पर हमलावर है. 

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने इस मामले को संदेहास्पद करार देते हुए न्यायिक जांच की मांग की है. वहीं, एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने इस मामले में पुलिस कर्मियों की गिरफ्तारी के साथ मृतक के परिवार को मुआवजे की मांग की है. हालांकि इस मामले में कासगंज एसपी ने 5 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है.

यूपी: कस्टडी में अल्ताफ की मौत पर विवाद, पुलिस ने बताई फांसी, पिता बोले- मर्डर

अखिलेश ने कहा हो न्यायिक जांच

अखिलेश यादव ने कासगंज मामले में पुलिस पर सवालिया निशान उठाते हुए ट्वीट किया. अखिलेश ने लिखा कि कासगंज में पूछताछ के लिए लाए गए युवक की थाने में मौत का मामला बेहद संदेहास्पद है. लापरवाही के नाम पर कुछ पुलिसवालों का निलंबन सिर्फ़ दिखावटी कार्रवाई है. इस मामले में इंसाफ व भाजपा के राज में पुलिस में विश्वास की पुनर्स्थापना के लिए न्यायिक जांच होनी ही चाहिए.

चावल से भरे पतीले में थूकते मौलाना का वीडियो वायरल, फिर उठे इस्लाम पर सवाल

केस में शामिल पुलिस वालों की हो गिरफ्तारी

कासगंज मामले में एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने पुलिस पर कार्रवाई की मांग करते हुए ट्वीट किया कि इस मामले में केस में शामिल पुलिस वालों की गिरफ्तारी हो और अल्ताफ के परिवार को मुआवजा भी दिया जाना चाहिए. उत्तर प्रदेश में लगातार पुलिस का अत्याचार बढ़ता जा रहा है.

बता दें कि एक किशोरी के अपहरण के आरोप में पुलिस अल्ताफ नाम के युवक को हिरासत में थाने ले आई थी. इस दौरान संदिग्ध परिस्थितियों में अल्ताफ की मौत हो गई. जिस पर पुलिस ने कहा कि उसने टॉयलेट में फांसी लगा ली. वहीं, मृतक के पिता का कहना है कि पुलिस ने उनके बेटे का मर्डर कर दिया. जिस टोटी से पुलिस फांसी लगाने की बात कर रही है वो सिर्फ 2 फीट ऊपर लगी है. जिसके चलते पुलिस पर सवाल उठ रहे हैं. इस मामले में कासगंज पुलिस ने 5 पुलिसकर्मियों को लापरवाही के आरोप में निलंबित करने के साथ मामले की जांच के आदेश दिए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें