किसान महापंचायत में टिकैत बोले- PM माफी नहीं मांगें, MSP कानून दें, टेनी की गिरफ्तारी हो

Shubham Bajpai, Last updated: Mon, 22nd Nov 2021, 6:34 PM IST
  • यूपी के लखनऊ में भारतीय किसान यूनियन द्वारा आयोजित किसान महापंचायत में राकेश टिकैत ने एमएसपी पर कानून की मांग करते हुए केंद्र की मोदी सरकार से गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी की गिरफ्तारी की मांग की. टिकैत ने कहा कि पीएम मोदी माफी न मांगे वो एमएसपी पर कानून लाए.
किसान महापंचायत में टिकैत बोले- PM माफी नहीं मांगें, MSP कानून दें, टेनी गिरफ्तारी हो

लखनऊ, राजधानी में इको पार्क में सोमवार को भारतीय किसान यूनियन ने कृषि कानूनों को वापस लिए जाने के बाद किसान महापंचायत का आयोजन किया. महापंचायत में किसान नेता राकेश टिकैत, योगेंद्र यादव समेत कई किसान नेता शामिल हुए. राकेश टिकैत ने पंचायत को संबोधित करते हुए गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा की गिरफ्तारी की केंद्र की मोदी सरकार ने मांग की.

सरकार लेकर आए एमएसपी पर कानून

राकेश टिकैत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को माफी मांगने की जरूरत नहीं है. वो हमें एमएसपी पर एक कानून का आश्वासन दें. सरकार दावा कर रही है कि एमएसपी पर एक समिति बनाई गई है. ये झूठ है. हम सरकार से सिर्फ इतनी मांग करते हैं कि 2011 में एमएसपी को लेकर जो समिति बनाई गई थी, बस सरकार उसकी सिफारिशों को लागू करें.

संयुक्त किसान मोर्चा ने PM मोदी को लिखा खुला पत्र, MSP सहित इन छह मांगों पर हो चर्चा, जानिए

अजय मिश्रा की गिरफ्तारी हमारी महत्वपूर्ण मांग

राकेश टिकैत ने अजय मिश्रा की गिरफ्तारी की सरकार से मांग करते हुए कहा कि ये हमारी महत्वपूर्ण मांग है. अगर उसको हीरो बनना है तो किसान उसे जेल का हीरो बना देगा. साथ ही अजय मिश्रा द्वारा चीनी मिल का उद्घाटन करने को लेकर कहा कि यदि टेनी मिल का उद्घाटन करता है तो किसान मिल के लिए अपना गन्ना मजिस्ट्रेट के कार्यालय में ले जाएंगे.

29 नवंबर को करेंगे संसद तक मार्च

किसानों ने महापंचायत में फैसला लिया कि किसान अपनी 6 मांगों को लेकर संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन 29 नवंबर को संसद तक मार्च करेंगे.

किसान महापंचायत में बोले राकेश टिकैत, BJP और ओवैसी के बीच चाचा-भतीजे का रिश्ता

बता दें कि 3 अक्टूबर को लखीमपुर में किसान और भाजपा नेताओं के बीच झंड़प हुई थी. जिसमें 8 लोगों की मौत हो गई थी. जिसमें 4 किसान शामिल थे. जिसमें से तीन के परिवार वाले महापंचायत में मौजूद थे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें