कोलकाता की फर्म ने फर्जी बिल लगा हड़पे 57 लाख, लखनऊ में केस दर्ज

Smart News Team, Last updated: Fri, 4th Jun 2021, 8:32 PM IST
  • वर्ष 2017 में किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज में पहले से लगी एलईडी लाइट को हटा कर ऊर्जा दक्ष लाइट लगाने का प्रस्ताव आया था. जिसके लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे. कोलकाता साल्ट लेक स्थित धनश्री इलेक्ट्रानिक्स ने भी टेंडर डाला था. फर्म की तरफ से भेजे गए कोटेशन के आधार पर उन्हें ठेका दिया गया था.
कोलकाता की फर्म ने किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज में एलईडी लाइट लगाने का ठेका हासिल किया था.

लखनऊ- कोलकाता की फर्म ने किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज में एलईडी लाइट लगाने का ठेका हासिल किया था. कोलकाता की फर्म ने ऑनलाइन ऑक्शन में यह ठेका हासिल किया. साथ ही फर्म की तरफ से काम पूरा किए बगैर ही जाली बिल प्रस्तुत कर 57 लाख रुपये का भुगतान हासिल कर लिया गया. आडिट में गड़बड़ी सामने आने के बाद परियोजना अधिकारी की तहरीर पर विभूतिखंड कोतवाली में फर्म संचालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है.

यूपीनेडा में श्रीराम परियोजना अधिकारी के पद पर तैनात हैं. वर्ष 2017 में किंग जार्ज चिकित्सा विवि में पहले से लगी एलईडी लाइट को हटा कर ऊर्जा दक्ष लाइट लगाने का प्रस्ताव आया था. जिसके लिए ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे. कोलकाता साल्ट लेक स्थित धनश्री इलेक्ट्रानिक्स ने भी टेंडर डाला था. फर्म की तरफ से भेजे गए कोटेशन के आधार पर उन्हें ठेका दिया गया था. जिसमें धनश्री इलेक्ट्रानिक्स को केजीएमयू के लिए एलईडी इनडोर लाइट की सप्लाई से लेकर लगाने तक काम करना था. मगर फर्म ने 36 वाट की 2345 और 18 वाट की 154 एलईडी लाइट की आपूर्ति नहीं की.

पश्चिमी यूपी के बाद अब लखनऊ में दिखे 'घर बिकाऊ है' के बोर्ड, पढ़िए इनकी तकलीफ

लेकिन इसके बाद भी फर्म की तरफ से जाली बिल तैयार किए गए. जिसमें लाइट की आपूर्ति, उसे लगाने और कमीशन का खर्च शामिल किया गया था. करीब 57 लाख तीन हजार रुपये का भुगतान फर्जी कागज के आधार पर हासिल किया गया है. धनश्री इलेक्ट्रानिक्स का फर्जीवाडा सामने आने पर कई नोटिस भेजे गए थे. जवाब नहीं मिलने पर परिजयोजना अधिकारी ने विभूतिखंड कोतवाली में अमानत में खयानत, धोखाधड़ी और सरकारी धन का गबन करने की धारा में मुकदमा दर्ज कराया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें