लखनऊ के बख्शी का तालाब में सरकारी कागजों में हेरफेर कर जमीन कब्जाने का खेल

Smart News Team, Last updated: Sat, 19th Jun 2021, 4:07 PM IST
  • कई गांवों में सरकारी जमीन के अभिलेखों में हेरफेर कर उसपर अवैध कब्जे का मामला सामने आया है. सरकारी कागजों में नाम बदलने की वजह से इन जमीनों को खाली करा पाना जिला प्रशासन के लिए काफी मुश्किल हो रहा है.
सरकारी जमीनों पर कब्जे का खेल

लखनऊ: बख्शी का तालाब इलाके के कई गांवों में सरकारी जमीन के अभिलेखों में हेरफेर कर उसपर अवैध कब्जे का मामला सामने आया है. सरकारी कागजों में नाम बदलने की वजह से इन जमीनों को खाली करा पाना जिला प्रशासन के लिए काफी मुश्किल हो रहा है. उधर, डीएम ने इस पूरे मामले की जांच कराने की बात कही है.

दरअसल बख्शी का तालाब इलाके के रामपुर निष्फ गांव में एक जमीन सरकारी कागजों में तालाब श्रेणी में अंकित थी. राजस्व कर्मचारियों की मिलीभगत से तीन बीघे क्षेत्रफल वाली इस जमीन को सरकारी कागजों में बैजनाथ पुत्र बेंचालाल के नाम दर्ज करा दिया गया. इसके बाद जमीन को मुख्तार अशरफ मेमोरियल एजुकेशनल सोसायटी को बेंच दिया गया. इस जमीन का एक हिस्सा सोसायटी ने केशव नगर स्थित स्टार फाउंडेशन को दान में दे दिया.

लखनऊ एयरपोर्ट पर रन-वे विस्तार जल्द, उतर सकेंगे कार्गो विमान

बगहा गांव में भी कुछ ऐसा ही हाल है. यहां 10 साल से सरकारी कागजों में दर्ज एक जमीन पर मनोज सोनकर नाम के शख्स ने अवैध कब्जा जमा रखा है. ये जमीन काफी बेशकीमती बताई जा रही है.

लखनऊ में भू-माफिया के कब्जे से खाली कराए जाएंगे तालाब

इसके अलावा लखनऊ में कई ऐसी सरकारी जमीनें हैं जहां पर धड़ल्ले से अवैध निर्माण किया जा रहा है. लोगों ने इन सरकारी जमीनों के अभिलेखों में हेरफेर कर अपना नाम दर्ज करवा लिया है, जिससे इन जमीनों को खाली कराना प्रशासन के लिए चुनौतीपूर्ण होता जा रहा है. वहीं इस मामले में डीएम ने कार्रवाई की बात कही है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें