लखनऊ में फिर तेंदुए का खौफ! बछड़े की मौत के बाद नीलगाय का मिला शव

Smart News Team, Last updated: Mon, 10th Jan 2022, 9:33 AM IST
  • ग्राम सभा मवई कलां मजरे सरैया गांव में देर रात जंगली जानवर ने नीलगाय पर हमला बोल दिया. नीलगाय की रविवार सवेरे मौत हो गई. वहीं कुछ दिन पहले बादशाहखेड़ा में बछड़े का शव झाड़ियों में मिलने से तेंदुए की दहशत एक बार फिर फैल गई है. वन टीम ने जंगल में कांबिंग की लेकिन तेंदुए का पता नहीं चल सका. बारिश के चलते पदचिन्ह भी नहीं मिले.
लखनऊ में फिर तेंदुए का खौफ! बछड़े की मौत के बाद नीलगाय का मिला शव

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में तेंदुए की दस्तक से फैली दहशत अभी तक खत्म नहीं हुई. ग्राम सभा मवई कलां मजरे सरैया गांव में देर रात जंगली जानवर ने नीलगाय पर हमला बोल दिया. नीलगाय की रविवार सवेरे मौत हो गई. नीलगाय का शव मिलने से तेंदुए की दहशत एक बार फिर फैल गई. ग्रामीणों ने तेंदुए के हमले की आशंका जताई है. वन टीम ने जंगल में कांबिंग की लेकिन तेंदुए का पता नहीं चल सका. बारिश के चलते पदचिन्ह भी नहीं मिले.

जिला वन अधिकारी डॉ रवि कुमार ने बताया कि वन विभाग के नियंत्रण कक्ष में रविवार को तेंदुआ देखने की सूचना मिली है. रहीमाबाद के मवई कलां में नीलगाय पर तेंदुए के सूचना नहीं है. जहां-जहां तेंदुए होने की संभावना है, वहां वन विभाग की टीम निगरानी कर रही है. वहीं इलाके में तेंदुए के होने की आशंका को देखते हुए आसपास के गांवों को अलर्ट करने के साथ ही वन विभाग की टीम ने वहां डेरा डाल दिया है.

बुजुर्ग का नोचा कान

वहीं ग्राम जमोलिया में शनिवार रात घर में सो रहे बुजुर्ग पर एक जानवर ने हमला कर दाहिना कान नोच लिया. बेहोशी की हालत में वृद्ध को अस्पताल में भर्ती किया गया.

 

गंगा को लोगों की आजीविका का साधन बनाने में जुटी मोदी सरकार, अमल होगा 'अर्थ गंगा’ योजना

 

झाड़ियों में मिला बछड़े का शव

वहीं कुछ दिन पहले सोमवार को तकरोही के बादशाहखेड़ा में तेंदुए ने बछड़े को अपना निवाला बनाया था. जिसके बाद लोग अपनी और मवेशियों की सुरक्षा को लेकर परेशान हैं. सभी की आंखों में खौफ है, फिर भी हाथों में डंडा लिए छतों से निगरानी कर रहे हैं. स्थानीय लोगों का आरोप है कि वन विभाग की टीम सोमवार को आई थी, उसके बाद तो नजर नहीं आई. बादशाहखेड़ा में चारों तरफ घनी झाड़ियां, पेड़ और खेत हैं. ऐसे में लोगों को डर है कि तेंदुआ कहीं भी छुप कर बैठ सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें