ओडीओपी से आई परंपरागत उद्योगों में जान, 28 हजार से ज्यादा को मिला रोजगार

Smart News Team, Last updated: Mon, 9th Nov 2020, 10:51 AM IST
  • प्रदेश में ओडीओपी योजना के माध्यम से प्रदेश के लगभग सभी जिलों के अलग-अलग उत्पादों को नई पहचान दी गई है. इसके लिए उद्योग विभाग ने नीतियां बनाने से लेकर पिछले तीन साल में करीब 2600 उद्यमियों को 82.83 करोड़ की आर्थिक मदद भी की गई है.
यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ

लखनऊ: सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ के मेगा प्रोजेक्ट ‘एक जनपद, एक उत्पाद’ (ODOP) ने प्रदेश में दम तोड़ रहे परंपरागत उद्योगों में जान फूंक दी है. इस योजना के माध्यम से प्रदेश के लगभग सभी जिलों के अलग-अलग उत्पादों को नई पहचान दी गई है. इसके लिए उद्योग विभाग ने नीतियां बनाने से लेकर पिछले तीन साल में करीब 2600 उद्यमियों को 82.83 करोड़ की आर्थिक मदद भी की गई है. वहीं, इन उद्योगों में 28 हजार से ज्यादा लोगों को रोजगार भी मिले हैं.

रविवार को अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल ने बताया कि ओडीओपी के 11 हजार उत्पाद अमेजन पर उपलब्ध कराए गए हैं. अब तक 24 करोड़ की कीमत के 50 हजार उत्पादों की बिक्री हुई है. वित्तीय वर्ष 2018-19 में 916 उद्यमियों को 31.34 करोड़ रुपये की मदद दी गई है. साथ ही इससे 10733 लोगों को रोजगार मिले. 2019-20 में 1442 उद्यमियों को 43.53 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद दी गई और 15253 लोगों को रोजगार मिले.

योगी सरकार का आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को दीवाली तोहफा, मिलेंगे दूध-घी के पैकट

उन्होंने बताया कि वित्तीय वर्ष 2020-21 में अगस्त माह तक 236 उद्यमियों को करीब 7.96 करोड़ रुपये की मदद दी गई है और 2114 को लोगों को रोजगार मिला है. ओडीओपी उद्यमियों की समस्याओं का प्राथमिकता पर निस्तारण किया जा रहा है. साथ ही उन्हें तकनीकी रूप से दक्ष करने के लिए अपग्रेडेड मशीनें, ट्रेनिंग और आर्थिक मदद भी की जा रही है.

कोरोना के कारण महंगी होगी 2021 की हज यात्रा, ई-सेंटर पर 10 नवंबर से रजिस्ट्रेशन

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें