दिसंबर से 30 फीसदी तक महंगा हो सकता है जीवन बीमा प्रीमियम, जानिए क्या है वजह

Somya Sri, Last updated: Mon, 22nd Nov 2021, 9:09 AM IST
  • अगले महीने से जीवन बीमा प्रीमियम महंगा होने जा रहा है. बीमा क्षेत्र की कंपनी म्यूनिख ने विभिन्न टर्म पॉलिसियों के लिए अपनी दरों में 30 से 40% तक की वृद्धि कर दी है. जिससे प्रीमियम दरों में 25 से 30 फीसदी तक का इजाफा होने की संभावना है. वहीं जीवन बीमा कंपनी लाइफ इंश्योरेंस प्रीमियम में दिसम्बर से 30 फीसदी तक इजाफा करने की तैयारी कर रही है. बीमा प्रीमियम में वृद्धि के पीछे कोविड-19 को सबसे बड़ी वजह माना जा रहा है.
दिसंबर से 30 फीसदी तक महंगा हो सकता है जीवन बीमा प्रीमियम, जानिए क्या है वजह (फाइल फोटो)

लखनऊ: दिसंबर से जीवन बीमा प्रीमियम आपके लिए खरीदना महंगा होने वाला है. बीमा क्षेत्र की कंपनियां जीवन बीमा प्रीमियम महंगा कर सकती है. हालांकि अभी इसपर विचार चल रहा है. लेकिन माना जा रहा है कि अगले महीने यानी दिसंबर से जीवन बीमा प्रीमियम 30 से 40 फीसदी तक महंगा हो जाएगा. वहीं इस वक्त बीमा क्षेत्र की कंपनी म्यूनिख ने 40 फीसदी तक प्रीमियम महंगा करने की घोषणा की है. जिसके बाद जीवन बीमा कंपनियां लाइफ इंश्योरेंस प्रीमियम में 30 फीसदी तक इजाफा करने की तैयारी कर रही है. साथ ही लाइफ इंश्योरेंस के तहत आने वाले टर्म प्लान में भी 40 फीसदी तक इजाफा हो सकता है.

क्यों महंगा होगा लाइफ इंश्योरेंस प्रीमियम

बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि बीमा प्रीमियम में वृद्धि के पीछे कोविड-19 सबसे बड़ी वजह है. उनका कहना है कि महामारी के दौरान कंपनियों की लागत और खर्च कई गुना तक बढ़ गयी है. इस वजह से अंडरराइटिंग पोर्टफोलियो में भारी इजाफा हुआ है. विशेषज्ञों का कहना है कि पूर्ण बीमा की दरों में 40 फीसदी तक की वृद्धि हुई है इसलिए प्रीमियम में 30 फीसदी की वृद्धि होने का अनुमान है. यह बीमा कराने वाले की उम्र, बीमा राशि और व्यक्ति के जीवन की गुणवत्ता पर निर्भर करेगा.

DGP Conference: पुलिस फोर्स के लाभ के लिए तकनीकों के विकास पर PM मोदी ने दिया जोर

म्यूनिख ने महंगा किया लाइफ इंश्योरेंस प्रीमियम

जानकारी के मुताबिक बीमा क्षेत्र की कंपनी म्यूनिख ने विभिन्न टर्म पॉलिसियों के लिए अपनी दरों में 30 से 40% तक की वृद्धि कर दी है. जिससे प्रीमियम दरों में 25 से 30 फीसदी तक का इजाफा होने की संभावना है. वही बीमा उद्योग की रिपोर्ट के मुताबिक पहली लहर में कोरोना से मरने वाले लोगों के दावे 2021 के पूरे वित्त वर्षों के दावों से अधिक थे. जबकि दूसरी लहर के दौरान बीमा कंपनियों ने कोरोना से संबंधित मौत के दामों को निपटाने के लिए 11060.5 करोड रुपए खर्च किए हैं. 21 अक्टूबर तक जीवन बीमा कंपनियों ने 1.30 लाख से अधिक कोविड-19 से जुड़ी मौतों के दावों का निपटारा किया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें