कनेक्शन लेकर बिल देना भूले 13 हजार उपभोक्ता, सालों से पेंडिंग बिजली बिल वसूलेगी

Naveen Kumar Mishra, Last updated: Wed, 17th Nov 2021, 10:18 AM IST
लखनऊ में 13 हजार उपभोक्ता ऐसे हैं जिन्होंने कनेक्शन लेने के बाद आज तक एक बार भी बिजली बिल नहीं भरा है. बिजली विभाग ऐसे उपभोक्ताओं को पहचान करके उन्हें ओटीएस का लाभ देकर पैसा वसूलने की तैयारी में जुट गई है. मध्यांचल निगम के मुताबिक सीस गोमती के 7323 और ट्रांस गोमती क्षेत्र के 5853 ऐसे उपभोक्ता है.
लखनऊ में 13 हजार उपभोक्ता ऐसे हैं जिन्होंने कनेक्शन लेने के बाद आज तक एक बार भी बिजली बिल नहीं भरा है. प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। लखनऊ में 13 हजार उपभोक्ता ऐसे हैं जिन्होंने कनेक्शन लेने के बाद आज तक एक बार भी बिजली बिल नहीं भरा है. बिजली विभाग ऐसे उपभोक्ताओं को पहचान करके उन्हें ओटीएस का लाभ देकर पैसा वसूलने की तैयारी में जुट गई है. मध्यांचल निगम के मुताबिक सीस गोमती के 7323 और ट्रांस गोमती क्षेत्र के 5853 ऐसे उपभोक्ता है. जिन्होंने बिजली कनेक्शन लेने के बाद एक बार भी बिजली बिल जमा नहीं किया है.

 

प्रयास के बाद भी उपभोक्ता नहीं जमा कर रहे बिजली बिल

राजधानी में 13,176 लोग ऐसे हैं जिन्होंने कनेक्शन लेने के बाद एक बार भी बिजली बिल नहीं भरा है. मिली जानकारी के अनुसार इन एक एक लोगों पर करीब 10 हजार रुपए बाकी हैं. निगम के अनुसार कुल लोगों का करीब 12.75 करोड़ रुपए का बकाया है. लेकिन कई प्रयासों के बावजूद यह लोग पैसे जमा करने को तैयार नहीं हैं. विभाग के अनुसार ऐसे उपभोक्ता जो बिजली बिल जमा नहीं कर रहे हैं उन्हें ओटीएस के बारे में लाया जाएगा और पैसा की वसूली की जाएगी.

लखनऊ में छोटा शकील का डर दिखा दंपत्ति ने कंपनी के मालिक से हड़पे 72 करोड़ रूपए

क्या कहते हैं मध्यांचल निगम के अधिकारी

मध्यांचल निगम के प्रबंध निदेशक सूर्यपाल गंगवार बताते हैं कि लेसा के 13 हजार लोग  ऐसे हैं जिन्होंने आज तक बिजली बिल नहीं भरा है. उन्होंने कहा कि ऐसे उपभोक्ता अगर ओटीएस के माध्यम से बिजली बिल का भुगतान करते हैं तो उन्हें सरचार्ज नहीं देना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि अगर कोई उपभोक्ता यह कंप्लेन करता है कि उनके पास तय सीमा से ज्यादा रकम का बिजली बिल भेजा गया है तो उसे तुरंत सही करवाया जाएगा. इन कामों में लापरवाही बरतने वाले इंजीनियरों और अधिकारियों पर भी कार्रवाई की जाएगी.

बुखार के साथ हाथ पैर की सूजन को नहीं करें नजरअंदाज, भुगतना पड़ेगा गंभीर परिणाम

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें