लखनऊ में यात्री सुरक्षा मानक पर 40 ई-बस चालक फेल, ड्राइवरों के लिए एडवाइजरी जारी

Sumit Rajak, Last updated: Fri, 4th Mar 2022, 10:27 AM IST
  • लखनऊ में यात्रियों के सुरक्षित सफर के लिए तैयार गाइडलाइन के अनुसार ई-बस ड्राइवरों की जांच की गई, जिनमें करीब 40 चालक फेल हो गए हैं. इन चालकों को बाहर का रास्ता दिखाने के बाद शहर के पांच रूटों पर 20 ई-बसों को रोक दिया गया. जिसका असर रोजाना सफर करने वाले तीन हजार से दैनिक यात्रियों पर पड़ा है, जिन्हें अन्य साधनों के लिए जूझना पड़ रहा है.
फाइल फोटो

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के लखनऊ में यात्रियों के सुरक्षित सफर के लिए तैयार गाइडलाइन के अनुसार ई-बस ड्राइवरों की जांच की गई, जिनमें  करीब 40 चालक फेल हो गए हैं.  इन चालकों को बाहर का रास्ता दिखाने के बाद शहर के पांच रूटों पर 20 ई-बसों  को रोक दिया गया. जिसका असर रोजाना सफर करने वाले तीन हजार से दैनिक यात्रियों पर पड़ा है, जिन्हें अन्य साधनों के लिए जूझना पड़ रहा है. वहीं,  एक तिहाई ई-बसें ड्राइवरों की कमी से दुब्बगा डिपो पर खड़ी हैं.  वहीं ई-बसों की संख्या के आधार पर वर्तमान में 51 चालक कम हैं, इसके लिए सिटी ट्रांसपोर्ट के एमडी ने निजी कंपनी को नोटिस भेजकर चालकों की कमी पूरी करने के आदेश दिए हैं. 

कानपुर  में हुए घटना के बाद नगरीय परिवहन निदेशालय ने गाइडलाइन जारी की थी. जिससे जांच में 35 से 40 चालक बाहर हो गए हैं. हालांकि, लखनऊ में आधा दर्जन रूटों पर 60 ई-बसों का संचालन शुरू हुआ था. मानक में फेल मिले चालकों को हटाने के बाद सिर्फ 109 ड्राइवर बचे। इनके जरिए मात्र 38 बसें संचालित हो पा रही हैं. गोमतीनगर, गोसाईगंज, माल, मलिहाबाद, रहीमाबाद रूटों पर एक तिहाई बसें बंद हो गई हैं.  बता दें कि पहले इन रूटों पर आठ से दस बसें चल रही थीं, लेकिन अब इन रूटों पर तीन से चार बसें बंद होने से दैनिक यात्रियों की परेशानी बढ़ गई है.

यूपी का पूर्व डीजीपी जो जाना जाता है अपनी सादगी के लिए, जानिए कौन

लखनऊ सिटी ट्रांसपोर्ट के एमडी पल्लव बोस ने बताया कि जांच के बाद दो दर्जन ई-बस चालक बाहर हो गए हैं. इसी कारण से कई रूटों पर ई-बसों का संचालन प्रभावित है. चालकों की कमी पूरी करने के लिए निजी कंपनी को नोटिस भेजा गया है. जल्द ही ड्राइवरों की कमी दूर होगी और बसें अपने रूटों पर चलने लगेंगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें