69,000 शिक्षक भर्ती कैंडिडेट ने BJP कार्यालय पर किया प्रदर्शन, आरक्षण लागू करने की मांग

Swati Gautam, Last updated: Mon, 8th Nov 2021, 9:47 AM IST
  • उत्तर प्रदेश में प्राथमिक स्कूलों की 69000 सहायक अध्यापक भर्ती में नियमानुसार आरक्षण न मिलने के मुद्दे पर रविवार को अभ्यर्थियों ने भाजपा कार्यालय का घेराव किया और पार्टी कार्यालय के अंदर ही उन्होंने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया. वहां सबने जमकर नारे लगाए और भर्ती में आरक्षण लागू करने की मांग की.
69,000 शिक्षक भर्ती कैंडिडेट ने BJP कार्यालय पर किया प्रदर्शन, आरक्षण लागू करने की मांग. file photo

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में प्राथमिक स्कूलों की 69000 सहायक अध्यापक भर्ती में नियमानुसार आरक्षण न मिलने का मुद्दा फिर से तूल पकड़ने लगा है. रविवार को अभ्यर्थियों ने भाजपा कार्यालय का घेराव किया और पार्टी कार्यालय के अंदर ही उन्होंने प्रदर्शन शुरू कर दिया. जिसके बाद बीजेपी कार्यालय में गंभीर माहौल बन गया. बीजेपी कार्यालय ने एक तरफ जहां अभ्‍यर्थी प्रदर्शन और धरना दे रहे थे. वहीं पार्टी कार्यालय के अंदर कार्यस‍मिति की बैठक चल रही थी. काफी देर तक यह प्रदर्शन चला. बता दें कि प्रदर्शनकारियों की मांग थी कि इस भर्ती में आरक्षण को लागू किया जाए.

बीजेपी कार्यालय में प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थियों ने कहा कि राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग ने इस भर्ती में घोटाला माना है. आयोग की रिपोर्ट को लागू किया जाए. प्रदर्शन के समय बीजेपी कार्यालय मौजूद उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, डा. दिनेश शर्मा व प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह भी मौजूद थे. सभी ने अभ्यर्थियों को बुलाकर आश्वासन दिया और कहा कि विपक्ष इसको अपना मुद्दा बना रहा है हम मुद्दा नहीं बनने देंगे, शीघ्र ही न्याय किया जाएगा. बता दें कि प्रदर्शन करने वालों में महिला कैंडिडेट भी शामिल थीं.

उत्तर प्रदेश के 13 जिलों की गोंड समेत छह जातियां अब ST कैटेगरी में

जब बीजेपी कार्यालय में अभ्‍यर्थियों का प्रदर्शन चल रहा था तो इसकी जानकारी हजरतगंज थाने की पुलिस को पहुंची और मौके पर पुलिस भी वहां पहुंच गई लेकिन अभ्‍यर्थी बीजेपी ऑफिस के अंदर दाखिल हो गए और उन्‍होंने जमीन पर बैठकर नारेबाजी शुरू कर दी. प्रदर्शनकारी लगातार मांग कर रहे थे कि भर्ती में आरक्षण को भी लागू किया जाए. इस दौरान सीएम योगी आदित्‍यनाथ का नाम का नाम लेकर इन प्रदर्शनकारियों ने कहा उनके साथ न्‍याय होना चाहिए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें