को-ऑपरेटिव बैंक भर्ती घोटाला: आरोपी हीरालाल यादव को हाइकोर्ट से राहत नहीं

Smart News Team, Last updated: Mon, 5th Jul 2021, 11:47 PM IST
  • को-ऑपरेटिव बैंक भर्ती घोटाला मामले के अभियुक्त तत्कालीन एमडी हीरालाल यादव को कोई भी राहत देने से हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने इंकार कर दिया है. घोटाला समाजवादी पार्टी के शासनकाल के दौरान हुआ था. उस वक्त अभियुक्त हीरालाल यादव को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड यूपी के एमडी थे.
हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने आरोपी हीरालाल यादव को राहत नहीं दी. (प्रतिकात्मक फोटो

लखनऊ- को-ऑपरेटिव बैंक भर्ती घोटाला मामले के अभियुक्त तत्कालीन एमडी हीरालाल यादव को कोई भी राहत देने से हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने इंकार कर दिया है. घोटाला समाजवादी पार्टी के शासनकाल के दौरान हुआ था. उस वक्त अभियुक्त हीरालाल यादव को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड यूपी के एमडी थे.

न्यायालय ने कहा कि ऐसा नहीं कहा जा सकता कि याची के खिलाफ प्रथम दृष्टया मामला नहीं बनता. यह आदेश न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा और न्यायमूर्ति विकास कुंवर श्रीवास्तव की खंडपीठ ने हीरालल यादव की याचिका को खारिज करते हुए पारित किया. याचिका ने उक्त भर्टी घोटाला के सम्बंध में एसआईटी थाने में आईपीसी की धारा 120बी, 471, 468, 467 व 420 के तहत 27 अक्टूबर 2020 को दर्ज एफआईआर को चुनौती दी थी.

CM योगी के निर्देश, कोरोना से बेसहारा हुई महिलाओं को मिले तत्काल पेंशन सुविधा

याची का कहना था कि प्रश्नगत चयन व भर्ती प्रक्रिया यूपी को-ऑपरेटिव बैंक के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स के प्रस्ताव के तहत हुई थी. याचिका का सरकारी वकील ने विरोध किया. दलील दी कि एसआईटी ने अपनी जांच में पाया है कि याची ने एमडी रहते हुए दस पदों की शैक्षिक योग्यता में नियम के विपरीत जाकर बदलाव कर दिया. न्यायालय ने दोनों पक्षों की बहस सुनने के पश्चात पारित अपने आदेश में कहा कि रिकॉर्ड को देखने के बाद प्रथम दृष्टया यह कहा जा सकता है कि अपराध हुआ है और विवेचना के लिए पर्याप्त आधार है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें