लखनऊ: एलडीए के अफसरों ने बिना अनुमति के बेच दिए करोड़ों रुपये के कमर्शियल प्लॉट

Smart News Team, Last updated: 08/12/2020 01:49 PM IST
  • लखनऊ विकास प्राधिकरण के अफसरो ने बाबुओं के साथ मिलकर करोड़ों रुपये खाली प्लाटों को बिना परमिशन के बेच दिया. सभी प्लाटों की कीमत 10 से 15 करोड़ रुपये के बीच में बताई जा रही है. मामले की जांच के लिए चार सदस्य टीम का गंठन किया गया है. 
लखनऊ विकास प्राधिकरण के अफसरो ने बिना परमिशन के बेच दिए कमर्शियल प्लॉट

लखनऊ में धोटाले का एक मामला सामने आया है. लखनऊ विकास प्राधिकरण में अफसरो की मिलीभत से करोड़ो रुपये के प्लाटों को बिना इजाजत के बेच दिया गया. सभी प्लाटों की कीमत करोड़ो में बताई जा रही है. मामला का खुलासा होते ही एलडीए में खलबली मच गई. अब आधिकारी यह जानने की कोशिश कर रहे है कि मामला किस बर्ष का है. आधिकारियों ने कहा है इस मामले दोषियो के खिलाफ जल्द ही एफआईआर दर्ज की जाएगी.

लखनऊ के ट्रांस्पोर्ट नगर फेस टू में एलडीए के अफ्सरों ने खर्जी कागजात बना कर खाली पड़े कमर्शियल प्लॉटों को बेच दिया. ये प्लाट डेढ़ हजार स्कवायर फीट से लेकर चार हजार स्कवायर फीट तक के है. जिनकी वर्तमान में कीमत 10 से 15 करोड़ रुपये बीच में बताई जा रही है. आधिकारियों को अंदेशा है कि पूरा खेल बाबुओं और अफसरो की मिली भगत से ही हुआ है. ट्रास्पोर्ट नगर के फेज वन और दू में कई से प्लाट है जिनका कंम्यूटर में गलत बयौरा दर्ज है.

अखिलेश यादव पर महामारी एक्ट में केस दर्ज, किसान आंदोलन समर्थन में रखा था मार्च

इस मामले की जांच के लिए चार सदस्य की साइबर टीम गंठन किया गया था. साइबर सुरक्षा टीम सोमबार को लखनऊ पहुंची,जहां उन्होंने एलडीए के कर्मचारियों से पूछताछ की. डीएलए के सचिव पवन गंगवार ने कहा कि, शिकायत के आधार पर जांच की जा रही है. प्राथमिक जांच में मामला सही पाया गया है. मामले में जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. और प्लाट लेने वाले के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी. सूत्रों के अनुसार जांच टीम को इस मामलें से जुड़ी कुछ फाइलें हाथ लगी है. जिसके आधार पर कार्रवाई होगी.

Bharat Bandh: UP में 8 दिसंबर को किसान प्रर्दशन के बीच जानें क्या बंद, क्या खुला

CM योगी ने भारत बंद पर की प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा-किसानों को गुमराह किया जा रहा है

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें