LDA से नक्शा पास कराना अब 50% महंगा, इस जगह बेचे जाएंगे एलडीए के प्लॉट

Smart News Team, Last updated: Wed, 9th Jun 2021, 12:50 PM IST
  • लखनऊ विकास प्राधिकरण की बोर्ड बैठक में यह फैसला लिया गया कि एलडीए से नक्शा पास कराना होगा 50 फीसदी तक महंगा. बैठक में आवंटियों को थोड़ी राहत देने के लिए ब्याज और दंड ब्याज की दरों में 2.05 फीसदी तक की छूट भी दी गई है. 
नक्शा पास कराने की कीमत 50 फीसदी की बढ़ोतरी(प्रतीकात्मक फोटो).

लखनऊ. अब एलडीए से नक्शा पास कराना पड़ेगा महंगा. मंगलवार को लखनऊ विकास प्राधिकरण की बोर्ड बैठक में यह फैसला लिया गया कि एलडीए से नक्शा पास कराने के लिए जहां 20 रुपये/वर्ग फुट शुल्क देना पढ़ता था अब 30 रुपये/वर्ग फुट शुल्क देना होगा. वहीं ट्रेसिंग लेआउट मैप पास करवाने की दर 200 रुपये/वर्गफुट से बढ़ाकर 300 रुपये/वर्गफुट कर दी है. कोरोना के कारण आए आवंटियों की आय में कमी को मद्देनजर रखते हुए यह फैसला लिया गया है.

आपको बता दें कि बैठक में आवंटियों को थोड़ी राहत देने के लिए ब्याज और दंड ब्याज की दरों में 2.05 फीसदी तक की छूट भी दी गई है लेकिन यह छूट दो साल तक के लिए लागू रहेगी उसके बाद लोगों को पुरानी दर से ही ब्याज और दंड ब्याज वसूला जाएगा. बोर्ड सदस्य रामकृष्ण यादव के मुताबिक किस्तों पर ब्याज की दर 11 फीसदी और दंड ब्याज की दर 13 फीसदी है. इसे घटाकर अब ब्याज दर 8.95 और दंड ब्याज दर 10.95 प्रतिशत करने का फैसला किया गया है. कमर्शल और आवासीय में यह छूट समान तरीके से लागू की जाएगी. 

CM योगी का बढ़ा फैसला, 23 लाख श्रमिकों को 1000 रुपये करेंगे ऑनलाइन ट्रांसफर

साथ ही बोर्ड ने सुलतानपुर रोड पर भी एलडीए का प्लॉट लेने के प्रस्ताव को भी हरी झंडी दे दी है. वसंतकुंज, मोहान रोड और प्रबंध नगर के बाद अब सुलतानपुर रोड पर भी एलडीए का प्लॉट मिलने की उम्मीद है. कहा जा रहा है कि इस रोड पर सहारा इंडिया का टाउनशिप लाइसेंस निरस्त होने के बाद यहां खाली 2052 एकड़ जमीन एलडीए अधिगृहीत करेगा और प्लॉटिंग कर बेंचेगा. 

500 एकड़ तक की टाउनशिप का लाइसेंस कुछ निजी कंपनियों को दिया जा सकता है. ट्रैफिक, पर्यटन, स्वास्थ्य और कार्यालय प्रबंधन समेत शहर के नियोजित विकास के लिए सिटी डिवेलपमेंट प्लान का प्रस्ताव भी एलडीए ने पास कर दिया है. 

UP के खिलाड़ियों को मिला टोक्यो पैरालम्पिक का टिकट, 8 महीने से ट्रेनिंग जारी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें