एलडीए ने 8 कर्मचारियों को किया बर्खास्त, कई सालों से नहीं आ रहे थे दफ्तर

Smart News Team, Last updated: Tue, 23rd Mar 2021, 7:49 PM IST
  • कई सालों से प्राधिकरण नहीं आ रहे 8 कर्मचारियों को एलडीए ने बर्खास्त कर दिया है. पहले इन कर्मचारियों की सैलरी रोकी गई थी. मंगलवार को एलडीए के उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश ने नौकरी से हटा दिया है.
प्राधिकरण न आने की वजह से एलडीए ने 8 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है.

लखनऊ. लखनऊ विकास प्राधिकरण (एलडीए) ने मंगलवार को अपने 8 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है. एलडीए के ये कर्मचारी कई सालों से ऑफिस नहीं आ रहे थे. प्राधिकरण में सालों से न आने की वजह से एलडीए के एलडीए के उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश ने 8 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है. इनमें कछ दो साल से गायब हैं तो 16 सालों से प्राधिकरण नहीं आए हैं. जिसको देखते हुए एलडीए ने कर्मचारियों को बर्खास्त करने का फैसला लिया है.

इस बारे में एलडीए के उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश ने कहा कि लंबे समय से गायब चल रहे 8 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि ये सभी काफी समय से गायब थे लेकिन पूर्व में कार्रवाई नहीं की गई. मंगलवार को इनकी सेवाएं समाप्त कर दी गई. आपको बता दें कि कार्यालय न आने की वजह से सिर्फ उनकी सैलरी रोकी गई थी.

69000 शिक्षक भर्ती के 4 हजार खाली पद वर्तमान मेरिट लिस्ट से भरे जाएंगे

मिली जानकारी के अनुसार, इनमें से कई कर्मचारी पहले से दूसरी जगह पर नौकरी कर रहे थे लेकिन यहां उनकी सेवाएं समाप्त नहीं की गई थीं लेकिन अब वे एलडीए से पूरी तरह से मुक्त हो चुके हैं. एलडीए ने जिन कर्मचारियों को बर्खास्त किया है उनमें अखिलेश चैनमैन नवंबर 2004 से प्राधिकरण नहीं आ रहे हैं. वहीं माली ओमप्रकाश पाली नवंबर 2011 से औरअ माली सरोज कुमार कुमार नवंबर 2019 से गायब हैं.

IG अमिताभ ठाकुर समेत यूपी पुलिस के ये तीन IPS समय से पहले किए गए रिटायर

इसके अलावा अनुचर राम लखन फरवरी 2007, अनुचर राम प्रताप सिंह सितंबर 2019, आद्या प्रसाद मेट 2019, विद्युत कार रवींद्रनाथ मुखर्जी अक्टूबर 2011 और सफाई कर्मचारी मेवालाल फरवरी 2005 से प्राधिकरण नहीं आ रहे हैं. एलडीए के 8 कर्मचारी कई सालों से प्राधिकरण नहीं आ रहे थे लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हुई थी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें