लखनऊ: कोरोना की तीसरी लहर से बचाव की तैयारियां शुरू, DM अभिषेक ने अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक

Smart News Team, Last updated: Wed, 23rd Jun 2021, 2:06 PM IST
  • कोरोना की तीसरी लहर से लोगों को बचाने के लिए जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने मेडिकल अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की. बैठक में सरकारी, निजी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों के अधिकारियों को बुलाया गया है. सभी मेडिकल अधिकारियों को कोरोना की तीसरी लहर से लड़ने और उससे बचाव से तैयार रहने के लिये कहा गया है. 
कोरोना की तीसरी लहर के बचाने के लिए लखनऊ में शुरू हुई तैयारियां.( सांकेतिक फोटो )

लखनऊ: कोरोना की तीसरी लहर से लोगों को बचने के लिए यूपी की राजधानी लखनऊ में तैयारियां शुरू हो गई हैं.  स्वास्थ्य विभाग लोगों को कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों को बचाने की अहम जिम्मेदारी होगी. स्वास्थ्य विभाग बच्चों के इलाज के लिए व्यापक स्तर पर व्यवस्था कर रहा है. तैयारियों का जायजा लेने के लिए मंगलवार को जिलाधिकारी ने कलेक्ट्रेट सभागार में सरकारी, निजी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों के अधिकारियों को बुलाकर स्थिति की समीक्षा बैठक की. बैठक में मेडिकल अधिकारियों को कोरोना से लड़ने के लिए पर्याप्त इंतजाम करने के लिए कहा है.

समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने कहा, कि कोरोना की तीसरी वेव में बच्चों में ज्यादा संक्रमण फैसले की संभावनाओं के देखते हुए सभी अस्पतालों को अपने यहां पीडिएट्रक वार्ड, वेंटिलेटर बेड की व्यवस्था को चाक-चौबंद रखने के लिये कहा गया है. उन्होंने कहा, कि किसी भी खतरनाक स्थिति में अस्पताल में बीमारियों के विशेषज्ञों, सीनियर, जूनियर और चीफ रेजिडेंट डॉक्टर हमेशा उपलब्ध होने चाहिए. साथ ही सभी अस्पतालों के मेडिकल स्टाफ को पीजीआई और केजीएमयू के वरिष्ठ डॉक्टर वर्चुअल प्रशिक्षण देंगे. यदि कही भी अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी है, तो जिला प्रशासन को सूचित करें.

लखनऊ: राष्ट्रपति के लिए बनेगा मिनी ऑफिस, इंटरनेट, हॉटलाइन फोन जैसी होगी सुविधा

तीसरी लहर से बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के इंतजाम

यदि कोरोना की तीसरी लहर आती है तो उससे बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग इंतजाम कर रहा है. लखनऊ के केजीएमयू में 100 बेड का पीडियाट्रिक वार्ड तैयार हो रहा है. इसके अलावा 50 बेड पीआईसीयू-एनआईसीयू, शेष ऑक्सीजन बेड भी तैयार किए जा रहे है. केजीएमयू में 100 बेड का पीडियाट्रिक वार्ड, 50 बेड पीआईसीयू-एनआईसीयू, शेष ऑक्सीजन बेड तैयार किया जा रहा है. तो आरएमएल में 50 बेड का पीडियाट्रिक वार्ड, 30 पीआईसीयू-एनआईसीयू और 20 ऑक्सीजन बेड बन रहा. इसके अलावा एरा मेडिकल कॉलेज में 30 बेड का पीआईसीयू-एनआईसीयू बैड, 100 बेड के पीडियाट्रिक वार्ड बनाया जा रहा है. साथ-साथ बलरामपुर अस्पताल और लोकबंधु अस्पताल में बैड तैयार किये जा रहे है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें