लखनऊ DM : होम आइसोलेशन वाले कोरोना संक्रमित मरीज बाहर घूमते मिले तो जाएंगे अस्पताल

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Tue, 4th Jan 2022, 3:36 PM IST
  • लखनऊ जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने होम आइसोलेशन का पालन न करने वाले कोरोना संक्रमित मरीज को लेकर निर्देश देते हुए कहा कि अगर कोई मरीज घर से बाहर घूमते हुए मिला तो इन पर कार्यवाही कर तत्काल इन्हें जिले में बनाए गए क्वारेन्टीन सेंटर / संबंधित इंस्टिट्यूशनल क्वारेन्टीन सेंटर में भर्ती कराया जाए.
लखनऊ जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश

लखनऊ: कोरोना के नए वैंरिएंट ओमीक्रॉन के तेजी से बढ़ते मामलों और तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में जिला प्रशासन ने सख्ती बढ़ा दी है. सोमवार को लखनऊ जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने निर्देश देते हुए कहा कि यदि कोई मरीज होम आइसोलेशन का पालन नहीं करता और बाहर घूमता फिरता है तो उस पर तत्काल कार्यवाही कर उसको इंस्टिट्यूशनल या अस्पताल में बनाए गए क्वारेन्टीन सेंटर में भर्ती कराया जाए. डीएम ने यूपी ग्राम विकास एवं पंचायती राज के अपर मुख्य सचिव, लखनऊ मंडल कमिश्नर और अन्य विभागीय अफसरों के साथ बैठक कर ये दिशा-निर्देश जारी किया है.

जिलाधिकारी ने सोमवार को हुई बैठक के दौरान कहा कि कोविड 19 से सम्बंधित कार्यो में शिथिलता एवं लापरवाही को कभी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. ऐसा करने वालों के विरुद्ध महामारी एक्ट के तहत कड़ी कार्यवाही की जाएगी. उन्होंने निर्देश देते हुए कहा है कि होम आइसोलेशन के रोगियों की कड़ी मॉनिटरिंग की जाए कि वह घर पर रहकर होम आइसोलेशन के प्रोटोकॉल का पालन कर रहे हैं या नहीं. यदि कोई रोगी होम आइसोलेशन का पालन नहीं करता है और बाहर घूमता फिरता है तो तत्काल उसको इंस्टिट्यूशनल क्वारेन्टीन में भर्ती कराने की कार्यवाही की जाए.

लापरवाही की हदें पार! सेल्फी के चक्कर में बड़े इमामबाड़े की छत से गिरी छात्रा

सभी MOIC को निर्देश देते हुए डीएम ने कहा कि होम आइसोलेशन वाले शत प्रतिशत रोगियों को मेडिकल किट उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाए. जिले के सभी प्रशासनिक व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारीयों को 4-6 घंटे फील्ड में रहने का निर्देश भी दिया है ताकि वे सभी इन व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करा पाएं.

इस बैठक में मौजूद अपर मुख्य सचिव ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज मनोज कुमार सिंह ने कहा कि कोरोना पॉज़िटिव मरीजों के घर वालों के साथ साथ व्यक्ति के घर के बाहर वाले सम्पर्कों को भी ट्रेस करते हुए उनकी भी ट्रेसिंग कराई जाए. साथ ही करीबी सम्पर्क वाले व्यक्तियों का RT-PCR टेस्ट कराना सुनिश्चित कराया जाए. आगे अपर मुख्य सचिव ने कहा कि कोविड संक्रमण की दृष्टि से अगला एक माह बहुत ही महत्वपूर्ण है. जिसके लिए युद्धस्तर पर ट्रेसिंग, टेस्टिंग व सर्विलांस करना अति आवश्यक है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें