जब फोन पर लखनऊ जिलाधिकारी बोले 'मैं DM बोल रहा रहा हूं', हैरान रह गए कोरोना मरीज

Smart News Team, Last updated: 01/05/2021 10:26 PM IST
  • लखनऊ के डीएम ने लोगों को फोन कर उनका हालचाल जाना उनको दवाएं मिलीं की नहीं, प्रशासन द्वारा दी जाने वाली सुविधाएं क्या संक्रमितों तक पहुंच रही है की नहीं इसकी स्थिति जाने के लिए लखनऊ ले डीएम अभिषेक प्रकाश कोरोना संक्रमितों को कॉल कर इसकी पुष्टि कर रहें थे.
जब फोन पर लखनऊ जिलाधिकारी बोले 'मैं DM बोल रहा रहा हूं', हैरान रह गए कोरोना मरीज

लखनऊ: कोरोना महामारी से निपटने के लिए दावा और सही इलाज की प्रत्मिकता के साथ आत्मविश्वास और साहस की भी बहुत जरूरत है. इसका एक नमूना देखने को मिला जब लखनऊ के डीएम ने लोगों को फोन कर उनका हालचाल जाना उनको दवाएं मिलीं की नहीं, प्रशासन द्वारा दी जाने वाली सुविधाएं क्या संक्रमितों तक पहुंच रही है की नहीं इसकी स्थिति जाने के लिए लखनऊ ले डीएम अभिषेक प्रकाश कोरोना संक्रमितों को कॉल कर इसकी पुष्टि कर रहें थे. 

नगरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र निरीक्षण को पहुंचे डीएम अभिषेक प्रकाश ने अधीक्षक से मरीजों का चार्ट लिया. इसके बाद कॉल करनी शुरू की. जब उन्होंने एक मरीज को कॉल किया और बोला- हैलो....नमस्ते में लखनऊ का जिलाधिकारी बोल रहा हूं... दूसरी तरफ संक्रमित मरीज को यकीन नहीं हुआ, पूछा जी फिर से बोलिए. डीएम ने अपना वाक्य दोहराया. फिर पूछा दवाएं मिली या नहीं. मरीज ने बताया कि समय पर मिल गई हैं. इसके बाद डीएम ने कहा कि दिन में तीन बार भाप जरूर लीजिएगा.

योगी सरकार पर भड़कीं प्रियंका गांधी, बोलीं- UP में जो हो रहा वो अपराध से कम नहीं

इसके बाद जिलाधिकारी कुछ मरीजों की सूची ली और कंटेनमेंट जोन में कुछ मरीजों के घर भी गए और बाहर से ही उनसे बातचीत की और उनका हाल जाना. सरकार की ओर से दी जा रही सुविधाओं का सत्यापन किया. अधिसंख्य रोगियों या उनके परिवारीजनों ने बताया कि पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद रैपिड रेस्पॉन्स टीम ने मेडिकल किट दे दी थी. घर के बाकी सदस्यों का भी टेस्ट हुआ. डीएम ने वैक्सिनेशन सेंटर और टेस्टिंग सेंटर का निरीक्षाण भी किया. 

UP में 18+ लोगों का कोरोना वैक्सीनेशन हुआ शुरू, CM योगी पहुंचे अवंती बाई अस्पताल

उन्होंने निर्देश दिया कि जिनको वैक्सीन अभी तक नहीं लगी है उनका उत्साहवर्धन किया जाए ताकी लोग ज्यादा से ज्यादा संख्या में वैक्सीनेशन के लिए आगे आएं. डीएम ने निर्देश दिया कि जो रैपिड रिस्पॉन्स टीमें घर घर जा कर सर्वेक्षण कर रही हैं उनका ब्योरा समय पर पोर्टल में दर्ज किया जाए. मरीजों से लगातार सम्पर्क रखा जाए ताकि किसी की तबियत बिगड़े तो तुरंत उसको अस्पताल में भर्ती कराया जा सके. डीएम ने इन्दिरा नगर समेत कुछ अन्य सीएचसी का भी निरीक्षण किया और क्षेत्र में घूमकर संक्रमितों से उनकी तबियत जानी, साथ ही लोगों को ढाढस बंधाया की इस बीमारी से लड़ना और जितना है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें