ऑक्सीजन की कमी के नाम पर मरीजों को भर्ती न करने पर होगी कार्रवाई: प्रभारी DM

Smart News Team, Last updated: Fri, 30th Apr 2021, 10:46 AM IST
  • जिले की प्रभारी रौशन जैकब ने सिल्वर जुबली अस्पताल के निरीक्षण के दौरान व्यवस्थाएं देखीं. वहीं होम आईसोलेट मरीजों को मिल रही सुविधाओं का हाल जाना. प्रभारी ने सख्त निर्देश दिए कि अगर कोई कोरोना मरीज को सीएमओ के पर्चे अथवा ऑक्सीजन की कमी के नाम पर भर्ती करने से मना करेगा तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी.
ऑक्सीजन की कमी के नाम पर मरीजों को भर्ती न करने पर होगी कार्रवाई: प्रभारी DM

लखनऊ. जिले में कोरोना मरीजों को दी जा रही सरकारी सुविधाओं का निरीक्षण करने के लिए जिले की प्रभारी रौशन जैकब कई स्थानों पर पहुंची. इस दौरान उन्होंने कोरोना जांच क्षमता बढ़ाने के साथ अफसरों को संवेदनशील होने की भी बात कही. वहीं होम आईसोलेट मरीजों से मिलकर उनका हाल जाना और कोरोना किट को लेकर मिली अव्यवस्थाओं को लेकर अधिकारियों को सख्त निर्देश देकर सही करने को कहा. उन्होंने बताया कि अब ऑक्सीजन की कहीं कोई कमी नहीं है. अगर कोई अस्पताल मरीज को ऑक्सीजन के नाम पर मना करेगा तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

जब निरीक्षण के लिए जिले की प्रभारी रौशन जैकब सिल्वर जुबली अस्पताल पहुंची. तो वहां एक हांफते हुए मरीज के आने पर उन्होंने तुरंत उसकी मदद की. सिल्वर जुबली में ऑक्सीजन सपोर्ट न होने पर उसे अन्य अस्पताल में तुरंत एम्बुलेंस से भेजा गया. बालगंज व ठाकुरगंज के निरीक्षण के दौरान उन्होंने सीएचसी स्तर पर दो-दो टेस्टिंग शिविर लगाने के निर्देश दिये. एक आरआरटी टीम में दो की जगह एक लैब टेक्नीशियन रखा जाए. साथ ही लैब टेक्नीशियन के साथ नर्स, आशा या एएनएम को भेजा जाए. जिससे कोरोना जांच टीमों की संख्या बढ़ सके.

यूपी: कंटेनमेंट जोन में सख्ती बढ़ी, इन चीजों पर भी रोक, पढ़ें गाइडलाइन

प्रभारी ने दवा वितरकों की सूची लेकर घर-घर कोरोना किट पहुंचाने की जांच की. इस दौरान प्रभारी अधिकारी कई कोरोना संक्रमितों के घर भी पहुंची. जहां अधिकारी उन्हें रोकते भले दिखे, लेकिन वे सीधे मरीजों के परिजनों से मिली एवं उन्हें मिल रही सुविधाओं के बारे में पूछा. परिजनों ने प्रभारी को बताया कि उन्हें किट के बारे में कोई जानकारी नहीं है. तो वहीं किसी को किट मिली लेकिन उसमें कई दवाएं थीं ही नहीं.

UP पंचायत चुनाव: टीचरों की मौत को लेकर शिक्षक संघ की मतगणना स्थगित करने की मांग

प्रभारी अधिकारी ने अफसरों को संवेदनशीलता अपनाने की हिदायद दी. उन्होंने सख्त निर्देश दिये कि अगर किसी अस्पताल में बेड हैं और वह सीएमओ की चिट्ठी अथवा ऑक्सीजन के नाम पर मरीज को मना करता है, तो उसके खिलाफ कड़ा एक्शन लिया जाएगा. उन्होंने बताया कि अब कहीं ऑक्सीजन की किसी भी प्रकार से कमी नहीं है. सभी को ऑक्सीजन उपलब्ध कराई जा रही है.

यूपी में अब तीन दिन लॉकडाउन, क्या खुलेगा, क्या रहेगा बंद, पढ़ें नई गाइडलाइन

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें