PUVVNL निजीकरण के विरोध में बिजलीकर्मियों की हड़ताल, जमकर नारेबाजी

Smart News Team, Last updated: 06/10/2020 10:31 AM IST
  • लखनऊ के राजभवन पर बिजलीकर्मियों ने पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम (PUVVNL) के निजीकरण के विरोध में प्रदर्शन किए. विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के नेतृत्व में प्रदेश भर में बिजलीकर्मियों ने पूर्ण कार्य बहिष्कार शुरू कर दिया है.
PUVVNL निजीकरण के विरोध में बिजलीकर्मियों का हड़ताल, जमकर नारेबाजी

लखनऊ. विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वान पर पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के निजीकरण के विरोध में सोमवार को लखनऊ के राजभवन में बिजलीकर्मियों और अफसरोंं ने अनिश्चितकालीन पूर्ण कार्य बहिष्कार पर चले गए हैं. 

हजारो की संख्या में बिजलीकर्मियों ने जमकर निजीकरण का विरोध किया. प्रदर्शन के दौरान विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के संयोजक शैलेन्द्र दुबे ने बताया कि सरकार से हमारी मांग पावर कॉरपोरेशन प्रबंधन से निजीकरण के प्रस्ताव को वापस लेने की है. 

हड़ताल से पूर्वांचल बिजली निजीकरण रोकने पर मंत्री माने,चेयरमैन नहीं, आंदोलन जारी

शैलेन्द्र दुबे ने कहा कि पांच अप्रैल 2018 को ऊर्जा मंत्री श्रीकान्त शर्मा के साथ एक लिखित समझौता हुआ था. समझौते के मुताबिक, यूपी में विद्युत वितरण निगमों की वर्तमान व्यवस्था में सुधार करने के लिए कर्मचारियों और इंजीनियरों को विश्वास में लेकर ही कार्यवाही की जाएगी. बिजली कर्मचारियों और इंजीनियरों को विश्वास में लिए बिना यूपी में कोई निजीकरण की प्रक्रिया नहीं की जाएगी. उन्होंने कहा कि हम इस समझौते का पालन करते हुए पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के निजीकरण की प्रक्रिया को निरस्त करने की मांग करते है.

PUVVNL हड़तालः वाराणसी के सेवापुरी उपकेन्द्र की बिजली सप्लाई रही ठप, दर्जनों गांव अंधेरे में

विद्युत कर्मचारी संघर्ष समिति के प्रतिनिधियों का भी कहना है कि समझौते के आधार पर ही प्रबन्धन बिजली कर्मचारियों, जूनियर इंजीनियरों और अधिकारियों को विश्वास में लेकर ही कोई सार्थक कार्यवाही हो. बता दें कि प्रदेश के मेरठ, वाराणसी आदि शहरों में बिजली के निजीकरण को लेकर विरोध-प्रदर्शन किया गया है. कर्मचारियों की मांग है कि सरकार पूर्वांचल विद्युत लिमिटेड को निजी हाथों में सौंपने के फैसले को वापस ले.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें