UP: कई योजनाओं में फर्जीवाड़ा, किसी में फर्जी नाम, कहीं अपात्र को मिल

Smart News Team, Last updated: Thu, 19th Aug 2021, 11:22 AM IST
  • उत्तर प्रदेश में समाज कल्याण विभाग की कई योजनाओं में फर्जीवाड़ा सामने आया. लखनऊ में पारिवारिक लाभ योजना में कई अपात्र के साथ फर्जी नाम और पते वाले लाभार्थियों को योजना का लाभ मिल गया. वहीं, प्रयागराज में शादी अनुदान योजना में 129 आवेदनों में 111 फर्जी पाए गए. विभागीय जांच में यह फर्जीवाड़े सामने आए हैं.
समाज कल्याण विभाग ने पारिवारिक लाभ योजना में 170 ऐसे लोगों को योजना के नाम पर अनुदान दे दिया, जिनके पते और नाम दोनों ही फर्जी थे.

लखनऊ. लखनऊ में समाज कल्याण विभाग ने पारिवारिक लाभ योजना में 170 ऐसे लोगों को योजना के नाम पर अनुदान दे दिया, जिनके पते और नाम दोनों ही फर्जी थे. वहीं. 115 ऐसे लाभार्थी भी सामने आए हैं जो योजना के लिए पात्र नहीं थे, लेकिन उन्हें भी योजना का लाभ दिया गया है. यह फर्जीवाड़ा विभागीय स्तर पर की गई गोपनीय जांच में सामने आया है. लखनऊ के कन्हैया माधवपुर वार्ड में राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना में 370 लाभार्थियों को अनुदान दिया गया था, जिसमें 285 लाभार्थी फर्जी पाए गए हैं. जिनमें कई के नाम, पते फर्जी थे तो कई ऐसे को भी लाभ पहुंचाया गया तो अपात्र थे.

अधिकारी ने जानकारी होने से किया इंकार

इस मामले में जिला समाज कल्याण अधिकारी डॉ. अमरनाथ यति ने जानकारी होने से इंकार कर दिया. उन्होंने कहा कि उन्हें इस मामले की कोई भी जानकारी नहीं है. जानकारी मिलने पर जांच करवायी जाएगी और जांच में दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. वहीं, विभागीय जांच में इस मामले में समाज कार्यालय के बाबू और सहायक समाज कल्याण अधिकारी को दोषी माना गया है.

UP सचिवालय में नौकरी दिलाने के नाम पर युवती से ठगे 2 लाख रुपए, थाने में FIR दर्ज

प्रयागराज में शादी अनुदान योजना में 129 में 111 मिले फर्जी

समाज कल्याण विभाग में फर्जीवाड़ा सिर्फ लखनऊ तक सीमित नहीं है. लखनऊ के बाद प्रयागराज में भी शादी अनुदान योजना में भी फर्जीवाड़ा सामने आया है. जांच में पाया गया कि शादी योजना में 129 आवेदनों में 111 फर्जी थे. इसकी जांच तहसील स्तर पर पर्यवेक्षक ने की. वहीं, हाथरस में भी आयुर्वेदिक व फार्मेसी पाठ्यक्रम चलाने वाले कुछ शिक्षण संस्थानों द्वारा एससी और जनरल स्टूडेंट्स की स्कॉलरशिप और फीस की सरकारी राशि फर्जीवाड़ा करके ले लेने के मामले में जांच में सभी आरोप सही पाए गए हैं. इस मामले में जल्द राशि रिकवरी के आदेश जारी कर दिए गए हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें