लखनऊ: करोड़ों के घोटाले में स्पोर्ट्स कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य बर्खास्त

Smart News Team, Last updated: 13/09/2020 11:18 PM IST
लखनऊ के स्पोर्ट्स कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य विजय कुमार गुप्ता को जांच के बाद बर्खास्त कर दिया गया है. गुप्ता को करीब 5.5 करोड़ रुपए के घोटाले में मई में निलंबित किया गया था.
स्पोर्ट्स कॉलेज में घोटाले के चलते पूर्व प्रधानाचार्य को बर्खास्त कर दिया गया है.

लखनऊ. गुरु गोविंद सिंह स्पोर्ट्स कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य और इतिहास के अध्यापक विजय कुमार गुप्ता को बर्खास्त कर दिया गया है. आपको बता दें कि विजय कुमार गुप्ता को मई में करीब 5.5 करोड़ रुपए के घोटाले के लिए निलंबित किया गया था. इससे पहले उन्हें जनवरी में भी निलंबित किया गया था लेकिन इस पर वे कोर्ट स्टे ले आए थे. लेकिन गमन वित्तीय अनियमितताओं और शासकीय धन के गबन के आरोप में उन्हें मई में फिर से निलंबित कर दिया गया.

गौरतलब है कि विजय ने फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर अध्यापक की नौकरी पाई थी इसके बाद वे न्यायालय के आदेश पर प्रधानाचार्य बने थे.

यूपी: नए सुरक्षा बल UPSSF का गठन, बिना वारंट तलाशी-गिरफ्तारी का होगा अधिकार

पिछले साल खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी ने राज्य की तीनों स्पोर्ट्स कॉलेजों के 5 वर्ष के कार्यकलापों की जांच के आदेश दिए थे. इसके पहले पिछले साल अगस्त में विजय कुमार गुप्ता को प्रधानाचार्य पद से हटाकर लखनऊ के क्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी जितेंद्र कुमार यादव को इसका कार्यभार सौंप दिया था. खेल मंत्री के कॉलेजों की जांच के आदेशानुसार खेल निदेशक डॉक्टर आरपी सिंह को जांच अधिकारी बनाया गया था. इस जांच में डॉ सिंह ने लखनऊ स्पोर्ट कॉलेज में तमाम वित्तीय अनियमितताएं पाई थी.

अयोध्या मस्जिद को नहीं बनवा सकेंगे सभी मुसलमान, बस हलाल की कमाई का होगा इस्तेमाल

जांच में यह भी सामने आया कि विजय कुमार गुप्ता ने प्रधानाचार्य रहते हुए 2005 से 2019 के बीच कई धांधली ओं के साथ करीब 5.5 करोड़ रुपए का गबन किया है. इसके बाद यह जांच रिपोर्ट पिछले साल 26 दिसंबर को प्रशासन को सौंप दी गई. इसके बाद जनवरी में विजय कुमार गुप्ता को निलंबित किया गया. जहां कोर्ट ने उनके निलंबन पर स्टे दे दिया. लेकिन मई में उन्हें फिर से निलंबित कर दिया गया. इसके बाद जांच में उन्हें आरोपी पाया गया. जिसके बाद सरकार ने उन्हें बर्खास्त कर दिया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें