सरकारी नौकरी का झांसा देकर ठगे 41 लाख, बचने के लिए जानें ठगों की प्लानिंग

Smart News Team, Last updated: 10/09/2020 12:10 PM IST
  • लखनऊ में सरकारी नौकरी का झांसा देकर बदमाशों ने भाई-बहन समेत तीन लोगों से 41 लाख रुपए हड़प लिए. बदमाश ने फंसाने के लिए पीड़ितों को झूठा नियुक्ति पत्र भी दिया. पुलिस ने हजरतगंज थाने में एफआईआर दर्ज कर ली है.
लखनऊ में सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर 41 लाख ठगे.

लखनऊ. यूपी की राजधानी में भाई-बहन समेत तीन लोगों को सरकारी नौकरी दिलवाने का लालच देकर शातिर बदमाशों ने 41 लाख रुपए हड़प लिए. पीड़ितों को भरोसा दिलाने के लिए बदमाशों ने जाली नियुक्ति पत्र भी दिए लेकिन काफी समय तक कोई नौकरी नहीं मिले तो पीड़ितों ने अपना पैसा मांगना शुरू कर दिया.

इस पर चालाक ने टालमटोल करना शुरू कर दिया. ठगी का एहसास होने पर पीड़ितों ने मामला हजरंतगंज थाने में दर्ज करा दिया है.

एल्डिको सिटी निवासी प्रतिभा की दोस्ती बिहार निवासी निधि गुप्ता से थी. प्रतिभा के घर पर निधि के भाई रवि का आना-जाना भी था. जो रेडियम स्टीकर लगाने का काम करता है. पुलिस को रवि ने बताया कि उसकी मौसी का बेटा गोरखपुर निवासी मोहित पीएम जन कल्याणकारी योजना का उपाध्यक्ष है और रवि ने दावा किया कि उसकी सरकारी विभागों में भी काफी पैठ है. वह पैसे लेकर कई लोगों की सरकारी नौकरी लगवा चुका है.

निधि के भाई की बातों में आकर प्रतिभा ने चचेरी बहन और दो भाईयों की नौकरी लगवाने के लिए रवि से कहा. प्रतिभा की मुलाकात इसके बाद संकट मोचन सेवा सदन बच्चा केंद्र चलाने वाली डॉ. अमरावती से बात कराई गई. डॉ ने बताया कि उसकी नौकरी भी मोहित ने ही लगवाई है. 

लखनऊ: संजय सिंह ने योगी सरकार पर आरोप लगाया, कहा- चीन से खरीदे चिकित्सा उत्पाद

प्रतिभा ने बताया कि तीन लोगों की नौकरी लगवाने के लिए पहली बार में 21 लाख रुपए दिए गए. मोहित ने उन्हें बताया कि एक राज्यमंत्री से बात हुई है लेकिन इस काम के लिए 15 लाख रुपए और लगेंगे. अगर ये रकम नहीं दी गई तो पहले दिए पैसे भी फंस जाएंगे. 15 लाख लेने के बाद आरोपी ने प्रतिभा और उसके भाईयों से इंदिराभवन के सातवें फ्लोर पर नियुक्ति पत्र मिलेगा. 

UP: खत्म होंगे ब्रिटिशकाल के गैर जरूरी कानून, विचार के बाद नीति आयोग जाएगी लिस्ट

प्रतिभा को लाखों रुपए गंवाने के बाद लगातार धमकियां मिल रही हैं. वहीं आरोपी भी रुपए नहीं लौटा रहा है. प्रतिभा ने परेशान होकर हजरतगंज के एसपी राघवेंद्र मिश्र को घटना की जानकारी दी और साथ ही आरोपियों द्वारा दिए जाली नियुक्ति पत्र भी दिखाए. जिसके बाद मोहित पर केस दर्ज कर लिया गया है और मामले की जांच की जा रही है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें