ऑनलाइन एप्स के चंगुल में फंसे युवा, अश्लील वीडियो से ब्लैकमेलिंग कर रहे बदमाश

Smart News Team, Last updated: Fri, 25th Sep 2020, 7:59 PM IST
लखनऊ में एक गिरोह ऑनलाइन ऐप के जरिये युवाओं को अपने जाल में फंसा रहा है. इसके बदले वह उनसे रुपये भी वसूल रहा है युवाओं से एप्लीकेशन को डाउनलोड करवा कर वह उनका अश्लील वीडियो बनाकर उन्हें ब्लैकमेल भी कर रहा है. राजधानी में कई युवाओं ने इसकी शिकायत पुलिस थाने में दी है.
लखनऊ में एक गिरोह हो ऑनलाइन एप्लीकेशन के जरिए युवाओं को फंसा रहा है.

 लखनऊ. राजधानी में हनी ट्रैप का मामला सामने आया है.गिरोह युवाओं को ऑनलाइन एप के मायाजाल में फंसा रहा है.साथ ही युवाओं को अश्लील वीडियो बनाकर उन्हें ब्लैकमेल कर मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहा है.इसके अलावा एप्लिकेशन से और वीडियो वायरल करने धमकी देकर उनसे मोटी रकम भी वसूल रहा है. साइबर क्राइम सेल इस गिरोह को पकड़ने का प्रयास कर रही है लेकिन अभी तक वह इसमें किसी को भी नहीं पकड़ पाई है.

गौरतलब है कि इस गिरोह कई तरह के एप्लीकेशन तैयार किए हैं.इसने सबसे ज्यादा युवाओं को अपना निशाना बनाया है. गिरोह में बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल हैं.

सोशल मीडिया क्या ना करा दे! फेसबुक पर जिंदा हुआ डॉन, युवाओं का बन रहा आइडल

जानकारी के अनुसार यह गिरोह सबसे पहले युवाओं को लिंक भेज कर एप्लीकेशन को डाउनलोड करवाता है. इसके बाद उन्हें नॉर्मल चैट, वीडियो चैट और अश्लील चैट की एक लिस्ट भेजता है. एक के बदले वह इन युवाओं से पैसे भी लेता है. इसके अलावा यदि कोई व्यक्ति चैट करने से इंकार कर दे तो उसे डेमो दिखाने के नाम पर झांसे में ले लिया जाता है.

इसके बाद भी युवाओं को वीडियो कॉल कर अश्लील तस्वीरें और वीडियो दिखाता हैं. इस दौरान गिरोह स्क्रीन रिकॉर्डर और अन्य टेक्निक्स का यूज करके सामने बैठे युवक की सारी गतिविधि रिकॉर्ड कर लेता है. इसके बाद रिकॉर्डिंग के नाम पर ही वह युवाओं को ब्लैकमेल करता है और वीडियो वायरल करने की धमकी देकर उनसे एक मोटी रकम मांगी जाती है. गिरोह के द्वारा किसी व्यक्ति के रुपए नहीं देने पर उसका वीडियो यूट्यूब पर अपलोड भी कर दिया जाता है.

लखनऊ: पत्नी के जाने के बाद से परेशान दो बच्चों के पिता ने खुद को गोली से उड़ाया

राजधानी में कई युवाओं के द्वारा पुलिस स्टेशन में इसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई है. जिसमें युवाओं ने साइबर सेल के जरिए यूट्यूब पर डाले गए वीडियो को हटवाने और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है. इसके अलावा युवाओं ने पुलिस को कुछ एप्लीकेशंस के नाम भी बताए हैं इन एप्लीकेशंस में टिंडर, मीका, फ्रेंड्स और स्ट्रेंजर नाम के कुछ एप्लीकेशन है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें