लखनऊ: इंदिरा नहर किनारे का होगा सौंदर्यीकरण, वीकेंड में पर्यावरण की खूबसूरती के साथ गुजार सकेंगे फुर्सत के पल

Pallawi Kumari, Last updated: Sun, 26th Sep 2021, 10:11 AM IST
  • लखनऊ शहर के इंदिरा नहर के दोनों किनारों पर सौंदर्यीकरण कर उसे भीतर की ओर से संवारने का काम किया जाएगा. इसके बाद ये लखनऊ के उन जगहों में शामिल हो जाएगा, जहां लोग वीकेंड पर जाना पसंद करेंगे. 
लखनऊ में इंदिरा नहर किनारे पर लॉन्ग ड्राइव के साथ बिता सकेंगे फुर्सत के पल.  

लखनऊ. राजाधानी में वैसे तो घूमने के लिए ढ़ेरों जगह और देखने के लिए काफी कुछ है. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ अपनी खास नजाकत और तहजीब के लिए मशहूर है. लखनऊ की खूबसूरती पर्यटकों को खूब लुभाती है. लखनऊ में ऐतिहासिक, पर्यावरण और खूबसूरती से भरपूर कई जगह हैं. लेकिन अब लखनऊ में लॉन्ग ड्राइव के साथ वीकेंड पर फुर्सत के खास पल बिताने के लिए एक और ठिकाना तैयार होने जा रहा है. जी हां, शहर से थोड़ी दूरी पर इंदिरा नहर किनारे के नहर को दोनों किनारों के भीतर की तरफ से संवारने का काम किया जाएगा.

ये पूरी परियोजना एसडीएम मोहनलालगंज शुभी काकन ने तैयार की है. इस योजना को जिला प्रशासन कम खर्च में करेगा. सोमवार को इस योजना को लेकर पहली बैठक होगी, जिसके बाद काम शुरू किया जाएगा. इंदिरा नहर किनारे को संवारने की शुरुआत जेल से लेकर नगराम, किसान पथ होते हुए मोहनलालगंज की सीमा के अंत तक 15 किलोमीटर में होगी. बाद में इसे 25 किलोमीटर तक ले जाया जाएगा. 

एकेटीयू ने शुरू किया UPCET 2021 Counselling के लिए रजिस्ट्रेशन, यूजी/पीजी कोर्सों के लिए ऐसे करें आवेदन

खास बात यह है कि सौंदर्यीकरण के लिए वन विभाग की ओर से आठ फीट के पेड़ लगाए जाएंगे और दूसरी तरफ किनारों पर सुरक्षा जाल, सुन्दरता के लिए पत्थर लगाने का कार्य सिंचाई विभाग करेगा. किनारों पर लाखों की संख्या में अच्छे किस्म के पौधे लगाए जाएंगे जिससे भूजल स्तर में भी सुधार होगा.

इंदिरा नजर किनारे पर दूसरे जिलों से लोग गैरकानूनी तरीके से मछली पकड़ने के लिए जाल बिछाते हैं और पुराने जाल को नहर में ही छोड़ चले जाते हैं. इससे पानी की धारा प्रभावित होती है. वहीं सन्नाटा और अंधेरा होने के कारण बदमाश व लुटेरे इसका फायदा उठाकर अवैध कार्य करते हैं. ऐसे में इंदिरा नहर की इस परियोजना के बाद एक तरफ नहर खूबसूरत बनेंगे वहीं दूसरी ओर आवाजाही बढ़ने से अवैध काम पर रोक लगेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें