लखनऊ: कई केंद्रों पर JEE Mains एग्जाम को लेकर असमंजस, परीक्षा अधिकारी लौटे वापस

Smart News Team, Last updated: 01/09/2020 12:16 PM IST
  • लखनऊ में कई केंद्रों पर जेईई मेन्स की परीक्षा को लेकर असमंजस की स्थिती बनी रही. परीक्षा केंद्र पर पहुंचे छात्रों को नहीं पता था कि उन केंद्रों पर आज परीक्षा नहीं थी. परीक्षा अधिकारियों को भी केंद्रों से वापस लौटना पड़ा.
लखनऊ: कई केंद्रों पर JEE Mains एग्जाम कैंसिल, छात्र और परीक्षा अधिकारी लौटे वापस

लखनऊ. लखनऊ में कई परीक्षा केंद्रों में जेईई मेंस की परीक्षा को लेकर असमंजस की स्थिति रही.परीक्षा की शुरुआत मंगलवार को हुई. लेकिन लखनऊ में कई केंद्र ऐसे रहे जहां आज परीक्षा नहीं थीं. कई केंद्रों पर परीक्षा ना होने के कारण छात्रों को वापस लौटना पड़ा. यहां तक की परीक्षा के लिए तैनात अधिकारियों को भी इसकी जानकारी नहीं थी आज उन केंद्रों पर परीक्षा नहीं होनी है और वो भी परीक्षा केंद्र पहुंचने के बाद लौटे. जानकारी के अनुसार कृष्णा नगर और जानकीपुरम विस्तार में बने केंद्र में से परीक्षार्थी वापस लौटे हैं. 

जिला प्रशासन की ओर से कुछ केंद्रों को परीक्षा की सूचना नहीं थी. बताया गया कि आयोजकों की ओर से मंगलवार को पहले दिन कृष्णा नगर में केंद्र बने पवन ऑनलाइन सॉल्यूशन, खरगापुर में बने मेट्रो इन्फो सॉल्यूशन समेत कई केंद्रों पर परीक्षा नहीं होने की बात कही गई. इस बारे में कृष्णा नगर के केंद्र पर एग्जाम देने तेलीबाग से आ रहे छात्रों का कहना है कि केंद्र पर परीक्षा ना होने के संबंध में कोई सूचना नहीं थी. उन्हें प्रशासन की ओर से कोई जानकारी नहीं दी गई थी.

विरोध के बाद भी कोरोना काल में आज JEE Mains परीक्षा, 1 घंटा पहले करें रिपोर्ट

वहीं कई केंद्रों पर इंटरनेट ने भी छात्रों को परेशान किया. ओमैक्स सिटी के पास बनाए गए केंद्र पर परीक्षा का आयोजन किया गया. प्रभारी अधिकारी उपजिलाधिकारी प्रफुल्ल त्रिपाठी ने बताया कि शुरुआत में इंटरनेट कनेक्शन को लेकर कुछ परेशानी हुई. हालांकि बाद में इसमें सुधार किया गया.

जयपुर: जेईई परीक्षा के लिए राजस्थान में 19 सेंटर 45 हजार परीक्षार्थी होंगे शामिल

बता दें, नेशनल टेस्टिंग एजेंसी, एनटीए ने परीक्षा कराने की जिम्मेदारी एक निजी कंपनी टीसीएस को सौंपी है. मंगलवार सुबह 9:00 बजे से परीक्षा की शुरुआत की जानी थी. इसके लिए राजधानी में 9 केंद्र बनाए गए हैं. 6 सितंबर तक चलने वाली इस परीक्षा में करीब 4500 छात्र छात्राओं का शामिल होना प्रस्तावित है. वहीं विपक्ष कई दिनों से परीक्षा के विरोध में प्रदर्शन कर रहा है. उनकी मांग थी कि कोरोना काल में परीक्षा नहीं होनी चाहिए और इन्हें रद्द किया जाए.

 

अन्य खबरें