लखनऊ: कायस्थ महासभा ने बीजेपी पर लगाया कायस्थों की अनदेखी का आरोप

Smart News Team, Last updated: 24/08/2020 12:41 AM IST
कायस्थ महासभा का आरोप यूपी पदाधिकारी सूची में बीजेपी ने की कायस्थों को नजरअंदाज किया.महासभा अध्यक्ष ने कहा प्रदेश की राजनीति में कायस्थों की भूमिका महत्वपूर्ण है. बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिख कर नाराजगी जताई. 
 अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के सदस्य (प्रतीकात्मक फोटो)

लखनऊ: अखिल भारतीय कायस्थ महासभा ने उत्तर प्रदेश में भाजपा पदाधिकारियों की सूची में कायस्थों की अनदेखी करने का आरोप लगाते हुए नाराजगी जाहिर की है. कायस्थ महासभा ने इस संदर्भ में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र भी लिखा है. इसके साथ ही महासभा की प्रदेश इकाई ने महासभा ने सभी जिलों के पदाधिकारियों से प्रदर्शन कर भाजपा के राष्ट्रीय नेतृत्व व प्रदेश नेतृत्व को पत्र लिखकर विरोध दर्ज कराने की अपील की.

आपको बता दें कि कल भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उत्तर प्रदेश में पार्टी पदाधिकारियों की सूची जारी की थी. जिसके बाद से सोशल मीडिया पर भी कायस्थों की अनदेखी किए जाने का असंतोष साफ दिखाई दे रहा था. 

 

रविवार को अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के राष्ट्रीय संगठनात्मक महासचिव पीसीएल श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश भाजपा पदाधिकारियों की सूची में कायस्थों का प्रतिनिधि न होना बहुत चौकाने वाला और आश्चर्यजनक है. इसके साथ ही  उन्होंने कहा कि मार्च 2019 में पूर्व भाजपा अध्यक्ष व वर्तमान केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कायस्थ समुदाय को उचित सम्मान और प्रतिनिधित्व देने का आश्वासन दिया था. वो आश्वासन वर्तमान पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा की सूची में पूरा होता नहीं दिख रहा. 

कायस्थों की प्रदेश की राजनीति में भूमिका पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश में कायस्थ समाज की आबादी कुल आबादी का 10.5 प्रतिशत है. साथ ही उन्होनें वर्तमान नियुक्तियों में उचित सुधारात्मक कार्रवाई करने की अपील करते हुए पार्टी से भविष्य में सकारात्मक संबंधों की उम्मीद की है. 

अन्य खबरें