सड़क दुर्घटना में घायल लोगों का घटनास्थल पर पहुंचकर इलाज करेगे KGMU डॉक्टर

Smart News Team, Last updated: 17/02/2021 11:03 AM IST
  • केजीएमयू प्रशासन ने सड़क हादसे में घायल होने वाले लोगों के लिए प्री हॉस्पिटल केयर प्रोजेक्ट की शुरुआत की है. इस योजना के तहत केजीएमयू डॉक्टर घटनास्थल पर जाकर घायलों का बेहतर इलाज कर सकेगे.
सड़क हादसे में घायलों का मौके पर पहुंचकर इलाज करेगे केजीएमयू डॉक्टर. ( फाइल फोटो )

लखनऊ: सड़क हादसे में घायल होने वाले लोगों के लिए लखनऊ केजीएमयू ने प्री हॉस्पिटल केयर प्रोजेक्ट शुरू किया है. इस प्रोजेक्ट के तहत हादसे में घायलों को घटनास्थल पर ही प्राथमिक इलाज उपलब्ध कराया जाएगा. गोल्डन हाउस में ईलाज उपलब्ध कराने से अधिक से अधिक लोगों की जान बचाई जा सकेंगी. इसके लिए केजीएमयू प्रंबंधन ने चार लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस खरीदी है इसमें ऑकसीजन, वेंटिलेटर जैसी सुविधाएं मौजूद होगी. जानकारी के अनुसार घायलों तक पहुंचने का यह दायरा अस्पताल से 10 किलोमीटर के क्षेत्र में होगा.

केजीएमयू के कुलपति डॉ. विपिन पुरी ने बताया, कि घायलों के घटनास्थल पर बेहतर इलाज के लिए यह सुविधा शुरू की जा रही है. घायलों तक पहुंचने के लिए यातायात विभाग अस्पताल प्रशासन की मदद करेगा. दुर्घटना के बाद कुछ घंटों तक घायल का समय गोल्डन हाउस रहता है. अगर घटना के बाद सही समय पर इलाज मिल जाए, तो अधिक लोगों की जान बचाई जा सकती है.

अजीत सिंह हत्याकांड में आरोपी के एनकाउंटर को लेकर पुलिस कमिश्नर को नोटिस

ब्लैक स्पॉट होंगे चिह्नित

वहीं प्रवक्ता और ट्रॉमा सेंटर के प्रभारी डॉ. सदीप तिवारी ने कहा, यातायात विभाग लखनऊ के ब्लैक स्पॉट को चुन रही है. यह स्थान ब्लैक स्पॉट हादसों की सख्या और गंभीरता के लिहाज से तय किए जा रहे है. ऐसे स्थानों पर केजीएमयू की एंबुलेंस मौजूद रहेंगी. साथ ही ऐसे स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जाएगे, जिनको सीधे अस्पताल से जोड़ा जाएगा.

जन्मदिन पर शिवपाल यादव ने परिवार को किया याद, बोले- मेरी इच्छा सभी एकजुट हो

यातायात विभाग करेगा मदद

यातायात विभाग एंबुलेंस के रास्ते में आनी वाली बांधा को दूर करेगा. जिसके लिए ग्रीन जोन बनाया जाएगा. जो एंबुलेंस को घटनास्थल तक जाने और वापस आने में मदद करेगा. डॉ. सदीप के मुताबिक 70 से 80 फीसदी लोगों घटनास्थल या रास्ते में अपनी जान गंवा देते है. प्री हॉस्पिटल केयर प्रोजेक्ट योजना से घायलों को बेहतर इलाज मिल सकेगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें