लखनऊ: नगर निगम पर कर्मचारियों का 55 करोड़ का बकाया, 9 साल से नहीं मिला मंहगाई भत्ता

Somya Sri, Last updated: Sun, 19th Sep 2021, 11:18 AM IST
  • नगर निगम कर्मचारियों को करीब 9 साल से डियरनेस एलाउंस यानी महंगाई भत्ता नहीं मिला है. इसके अलावा नगर निगम के कुछ कर्मचारियों को पीएफ का भुगतान भी नहीं किया जा रहा है. नगर निगम कर्मचारी संघ ने बताया कि कर्मचारियों को करीब 55 करोड़ रुपये का भुगतान होना बाकी है.
लखनऊ नगर निगम (फाइल फोटो)

लखनऊ: लखनऊ नगर निगम कर्मचारी संघ के अनुसार नगर निगम कर्मचारियों को करीब 9 साल से डियरनेस एलाउंस यानी महंगाई भत्ता नहीं मिला है. इसके अलावा नगर निगम के कुछ कर्मचारियों को पीएफ का भुगतान भी नहीं किया जा रहा है. नगर निगम कर्मचारी संघ ने बताया कि कर्मचारियों को करीब 55 करोड़ रुपये का भुगतान होना बाकी है. कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि इस संबंध में कई बार निगम से मांग की गई है. लेकिन अब तक उनकी मांग पूरी नहीं हुई है.

गौरतलब है कि मेयर की अध्यक्षता में हर मंगलवार को मंगल दिवस का आयोजन किया जाता है. जहां पर कर्मचारी मेयर के समक्ष अपना दुख दर्द बयां करते हैं. इस दौरान कई कर्मचारियों ने बताया कि उन्हें पीएफ, ग्रेज्यूटी, डीए नहीं मिल रहा है. वहीं नगर निगम कर्मचारी संघ का कहना है कि कई रिटायर्ड कर्मचारी भी परेशान हैं. उन्हें पेंशन नहीं मिल रहा है.

सोनू सूद की बढ़ी मुश्किलें, आयकर विभाग ने 20 करोड़ से ज्यादा की टैक्स चोरी का किया दावा

जानकारी के मुताबिक कार्यरत कर्मचारियों के सातवें वेतनमान के अंतर का 140 लाख रुपये अबतक बकाया है. वहीं कार्यरत कर्मचारियों के सातवें वेतनमान के अंतर की धनराशि(पीएफ खाते में) लगभग 500 लाख रुपये और कार्यरत कर्मचारियों के सातवें वेतनमान के अंतर की धनराशि( नगद भुगतान) 400 लाख रुपये बकाया है. वहीं अर्जित अवकाश की राशि 124 लाख, पेंशन ग्रेज्यूटी की राशि 1400 लाख, महंगाई भत्ता और बोनस 2000 लाख, पीएफ 5 महीने का 700 लाख, चिकित्सा प्रतिपूर्ति 40 लाख, कर्मचारी कल्याण कोष 20 लाख, ऑपरेटिव सोसाइटी 160 लाख रुपये बकाया है.

वहीं 300 रिटायर्ड कर्मी पेंशन एरियर नहीं मिलने से परेशान हैं तो वहीं 2600 कर्मचारी पीएफ एक इन्तेजार में हैं. नगर निगम कर्मचारी संघ के अध्यक्ष आनंद वर्मा ने कहा कि महंगाई भत्ते के साथ-साथ पेंशन एरियर और ग्रेज्यूटी के लिए कर्मचारी परेशान है. इसके लिए कई बार जिम्मेदारों को पत्र भी लिखा गया है लेकिन समस्या जस की तस बनी हुई है.

बारिश ने खोल दी लखनऊ स्मार्ट सिटी की पोल, महज 2 महीने में ही करोड़ों रुपये खर्च कर बनाई सड़क धंसी

वही मेयर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि कर्मचारियों के बकाए भुगतान के लिए प्रयास किए जा रहें है. लोग मंगल दिवस में जो भी मामले संज्ञान में आये हैं. उनका निस्तारण हो रहा है. पूरा प्रयास यही है कि जल्द से जल्द कर्मचारियों को बकाए का भुगतान किया जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें