योगी सरकार ने पीस पार्टी चीफ डॉ अयूब पर लगाया NSA, विवादित पोस्टर छापने का आरोप

Smart News Team, Last updated: 10/08/2020 03:50 PM IST
  • पीस पार्टी चीफ डॉ अयूब पर एनएसए के तहत कार्रवाई की जा रही है. उनके खिलाफ विवादित पोस्टर छापने का आरोप है. उन्हें पुलिस ने माहौल बिगाड़ने के आरोप में गिरफ्तार किया था.
योगी सरकार ने पीस पार्टी अध्यक्ष डॉ अयूब पर लगाया NSA, विवादित पोस्टर छापने का आरोप

पीस पार्टी के अध्यक्ष डॉ अयूब के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई की जाएगी. उनपर विवादित पोस्टर छपवाने का आरोप है. उनके खिलाफ हजरतगंज कोतवाली में दर्ज हुआ था मुकदमा. इसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. डॉ अयूब को 31 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था. आरोप था कि सोशल मीडिया के माध्यम से विवादित सामग्री प्रकाशित करवाई थी. इसी के बाद कई मौलाना नाराज हो गए थे और राजधानी के अलग-अलग इलाकों में शांति व्यवस्था प्रभावित हुई थी.

इसी के बाद डॉ अयूब  के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई और उन्हें गोरखपुर से गिरफ्तार कर लिया गया था. पुलिस डॉक्टर अयूब के खिलाफ साक्ष्य जुटा रही थी और उनके समर्थक उनकी रिहाई के लिए प्रदर्शन कर रहे थे. पुलिस जांच में जुटी है कि माहौल खराब करने की साजिश में और कौन शामिल थे. अब डॉ अयूब के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम, एनएसए के तहत कार्यवाही की जा रही है. 

BJP विधायक के साले की PGI में युवकों से भिड़त, MLA की गाड़ी पर पथराव

एसीपी हजरतगंज ने कहा था कि विवादित पोस्टर के कारण कई वर्गों में आक्रोश था और इसका असर शांति व्यवस्था पर पड़ा. माहौल बिगड़ने से पहले ही डॉ अयूब को गिरफ्तार किया गया था. डॉ अयूब को लखनऊ पुलिस ने रात में ही बड़हलगंज स्थित उनके आवास से गिरफ्तार कर लिया था. हजरतगंज थाने में उनके खिलाफ धार्मिक भावना भड़काने, 7 क्रिमिनल लॉ एमेंडमेंट एक्ट और आइटी एक्ट के तहत केस दर्ज हुआ था.

लखनऊ: हजरतगंज के झलकारीबाई महिला हॉस्पिटल में भीड़, ताक पर रखी सोशल डिस्टेंसिंग

पीस पार्टी पदाधिकारियों ने कहा था कि प्रदेश में जब से भाजपा की सरकार बनी है तब से विपक्ष की आवाज दबाकर लोकतंत्र का गला घोटने का प्रयास किया जा रहा है. राजनीतिक द्वेष के कारण ही विपक्ष के नेताओं पर मुकदमें दर्ज कराकर उनको जेल भेजा जा रहा हैं. अपने राजनीतिक लाभ के लिए भाजपा सरकार की लोकतन्त्र का गला घोटना आदत बन चुकी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें