लखनऊ: यूपी मंत्री चेतन चौहान के निधन पर PM मोदी और CM योगी ने जताया शोक

Smart News Team, Last updated: 16/08/2020 10:43 PM IST
  • यूपी में मंत्री चेतन चौहान को पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ ने श्रद्धांजलि दी. पूर्व क्रिकेटर और उत्तर प्रदेश के होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान की मौत होने के बाद राजनीति और क्रिकेट जगत से जुड़े लोगो द्वारा शोक संदेश देने का सिलसिला जारी है.
लखनऊ: यूपी मंत्री चेतन चौहान के निधन पर PM मोदी और CM योगी ने जताया शोक

लखनऊ. पूर्व क्रिकेटर और उत्तर प्रदेश के होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान के निधन के बाद राजनीति और क्रिकेट जगत से जुड़े लोगो द्वारा शोक संदेश देने का सिलसिला जारी है. 11 जुलाई को चेतन चौहान में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद उनका इलाज चल रहा था. शनिवार को उनकी दोनों किडनी फेल हो गई थी, जिसके बाद आज गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में उनका निधन हो गया.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर चेतन के निधन पर दुख जताया. पीएम मोदी ने ट्वीट में लिखा है कि श्री चेतन चौहान जी ने खुद को एक शानदार क्रिकेटर और बाद में एक मेहनती राजनीतिक नेता के रूप में प्रतिष्ठित किया. उन्होंने यूपी में सार्वजनिक सेवा और भाजपा को मजबूत करने में प्रभावी योगदान दिया. उनके निधन से मैं दुखी हूं. उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना. ऊं शांति। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी ट्वीट कर पूर्व क्रिकेटर के प्रति अपने शोक को व्यक्त किया. 

योगी सरकार में मंत्री चेतन चौहान का निधन, क्रिकेट से राजनीति तक ऐसा रहा सफर

सीएम योगी ने लिखा कि 'पूर्व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी, मंत्रिमंडल में मेरे सहयोगी, श्री चेतन चौहान जी के असामयिक निधन का व्यथित कर देने वाला समाचार प्राप्त हुआ. प्रभु श्री राम, श्री चौहान जी के परिजनों को इस अपार दुख को सहने की शक्ति एवं दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान प्रदान करें. केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने चेतन चौहान को जनसेवक कहा साथ ही निधन को भारतीय राजनीति और क्रिकेट की बड़ी क्षति बताया.

योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री चेतन चौहान की कोरोना के बाद किडनी फेल से मौत

इसके साथ ही क्रिकेट जगत से जुड़े कई महत्वपूर्ण व्यक्तियों ने भी चेतन चौहान के निधन पर शोक व्यक्त किया. रवि शास्त्री सचिन तंदुलकर और विराट कोहली समेत सभी दिग्गजों ने अपने सीनियर को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि दी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें