CBI तो कभी एंटी करप्शन अफसर, ऐसा ठग जो रौब झाड़कर बना लेता था लोगों को शिकार

Smart News Team, Last updated: Thu, 17th Sep 2020, 6:50 PM IST
  • लखनऊ के कृष्णानगर में एक फर्जी सीबीआई अधिकारी को गिरफ्तार कर लिया गया. अशोक नाम का ये नकली अधिकारी अपने पद का रौब दिखा कर लोगों को ठगी का शिकार बना रहा था. इस जालसाज के पास से कई मोहरे व अन्य सामान भी बरामद हुआ है.
प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ: राजधानी के कृष्णानगर में एक सरकारी अफसर को उसके खिलाफ जांच में सबूत मिलने की बात कहकर ठगी के इरादे से पहुंचे फर्जी सीबीआई अधिकारी को पुलिस ने बुधवार रात को हिरासत में ले लिया है. बिहार के बक्सर निवासी इस फर्जी अधिकारी ने अपना नाम अशोक कुमार श्रीवास्तव बताया है. पुलिस के रिकॉर्ड के मुताबिक अशोक दो साल पहले अलीगंज में भी एक युवक को फर्जी अधिकारी बनकर ठगने के मामले में पकड़ा गया था.

जानकारी के मुताबिक फर्जी सीबीआई अधिकारी अशोक ने एक सांसद के प्रतिनिधि को भी दो दिन से रौब में लेने का प्रयास किया. इस प्रतिनिधि को भी वह एक मामले की सीबीआई जांच शुरू करवाने की बात कह कर झांसे में ले रहा था. जब प्रतिनिधि को शक हुआ तो उसने इसकी सूचना पुलिस को दे दी. इस दौरान ही सरकारी अफसर ने भी आरोपी की शिकायत पुलिस कमिश्नर से की. इसके बाद ही पुलिस हरकत में आई डीसीपी सोमेन वर्मा ने बताया कि जांच में पता चला है कि अशोक के पास से कई फर्जी मुहरे, दस्तावेज व अन्य सामान भी मिला है. 

मायावती ने किया SC/ST के अम्बेडकर छात्रावास को डिटेन्शन सेन्टर बनाने का विरोध

पुलिस का दावा है कि अशोक इससे पहले कुछ लोगों को एंटी करप्शन टीम का अधिकारी बनकर ठगी का शिकार बना चुका है. यही नही एक बार वह आईबी अधिकारी बनकर भी लोगों को झांसा दे चुका है. डीसीपी मध्य सोमेन ने बताया कि अशोक दो साल से अलीगंज में किराए का कमरा लेकर रह रहा है. यहां भी उसने अपना परिचय अधिकारी के रूप में दिया था. उसके घर रात ही में तलाशी ली गई तो मुहरों के अलावा कई लेटर पैड व अन्य सामान मिला. पुलिस गुरुवार को इसके बारे में कई और जानकारियां पता करेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें